स्वास्थ्य के नाम पर करोड़ो रूपये लूटने के बाद भी ग्रामीणों को नहीं मिल पा रही है सुविधा

उत्तरकाशी। जिला के मोरी विकास खंड के सुदूरवर्ती गांव गंगाड़ से दिल दहला देनी वाली खबर सामने आई है। एक ऐसी खबर जिसने उत्तराखंड के 20 साल बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं पर प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिए हैं। कब तक सुदूरवर्ती क्षेत्रों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल पायेगा।
इं० डीपीएस रावत ने प्रदेश सरकार पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि एक तरफ तो प्रदेश सरकार ने पहाड़ की भोली भाली जनता को एयर एम्बुलेंस के सपने दिखाये थे। परन्तु जब इसकी आवश्यकता होती है तब कोई भी सुविधायें नही मिल पाती हैं। जहाँ एक माँ ने अपने नवजात बच्चे को खो दिया। कहा कि उत्तरकाशी जिले के मोरी विकास खंड के सुदूरवर्ती गांव गंगाड़ की प्रियंका प्रसव पीड़ा से तड़पती रही। गंगाड़ गांव सुदूरवर्ती क्षेत्र है, ओर आज भी वहां पर सड़क नहीं है। सड़क न होने के कारण ग्रामीणों ने कई किलोमीटर तक प्रियंका को अपने कंधों पर मोटर मार्ग तालुका तक पहुंचाया। ग्रामीणों का कहना है कि कई बार फोन करने पर भी जीवन दायनी 108 सेवा भी गायब ही मिली। इसके बाद प्रियंका को किसी तरह प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मोरी पहुंचाया गया। हैरानी इस बात की है कि यहां पर भी महिला चिकित्सक नहीं थी। अब करें तो क्या करें? उधर प्रसव पीड़ा से तड़पती प्रियंका और इधर स्वास्थ्य सेवाओं की राह ताकते परिवार वाले फिर घरवाले प्रियंका को ढाई सौ किलोमीटर दूर देहरादून ले जाने की तैयारी करने लगे। बताया कि इतने में ही रास्ते मे ही उसका कष्टदायक प्रसव हुआ, जिसमें बच्चे की जान चली गई। महिला की बड़ी मुश्किल से जान बची। सवाल ये है कि आखिर कहां है विकास? और आखिर किधर भटक गया है विकास? प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मोरी में सुविधा न मिलने के कारण एक ओर मां इस तरह जिंदगी ओर मौत से तड़पती रही और प्रदेश का विकास कहीं उम्मीदों के गर्त में समा गया। आखिर इस दु:खद घटना की जिम्मेदारी कौन लेगा? इं० डीपीएस रावत ने कहा कि 20 साल से बीजेपी कांग्रेस ने केवल प्रदेश बारी बारी से लूटा है जिसका परिणाम आज जनता भुगत रही हैं और अब जनता को ने बिकल्प ढूढना चाहिये जो क्षेत्रिय दल हो, ताकि पहाड़ो की समस्यों का समाधान मिले।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी