उत्तराखंड : अक्टूबर से दिसंबर तक के त्यौहारी आयोजनों को सरकार की मंजूरी, नए दिशा-निर्देश भी किये जारी

उत्तराखंड : कोरोना की मार झेल रहे उत्तराखंड राज्य में त्यौहारों का रंग फ़ीका पड़ गया है। लेकिन, अब अनलॉक-5 में जारी नए दिशा निर्देशों के सरकार द्वारा कई चीज़ों में रियायत बक्शे जाने पर आम जन को ख़ासा राहत मिली है। गौरतलब है कि, एक बार फिर से त्यौहारों का सीजन जैसे नवरात्रे से लेकर दशहरा, ईद, दीपावली, क्रिसमस सहित कई त्यौहार आ रहे हैं। त्योहारों के चलते बाजारों में जबरदस्त भीड़ रहेगी, जिससे कोरोना संक्रमण के अधिक प्रसार होने की प्रबल आशंकाएं भी होंगी। इसी को देखते हुए प्रदेश सरकार ने आगामी त्योहारों पर आयोजित होने आयोजनों को मंजूरी तो दे दी है, लेकिन इसी के साथ दिशानिर्देश भी जारी किये हैं। सरकार ने आयोजनों में अधिकतम 200 लोगों की संख्या तय की है। आयोजनों में आने वाले सभी लोगों को मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष तौर पर ध्यान रखना अनिवार्य किया गया हैं। साथ ही ये भी कहा कि, कंटेनमेंट जोन में किसी प्रकार का कोई भी कार्यक्रम आयोजन नहीं होगा। साथ ही आयोजकों के लिए किसी भी आयोजन की विस्तृत कार्ययोजना बनानी होगी। अन्य स्थानों पर आयोजकों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए मार्किंग करनी होगी और थर्मल स्कैनिंग, सेनेटाइजर की व्यवस्था को सुनिश्चित करना होगा ।

ये रहेंगे नियम:

1- गंभीर बिमारी से ग्रसित 65 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति, गर्भवती महिला, 10 साल से कम उम्र के बच्चे घर पर ही रहें।

2- त्योहारी सीजन में थर्मल स्कैनिंगऔर आयोजन स्थल को बार-बार सैनिटाइज करने के लिए, सामाजिक दूरी को बनाए रखने के लिए, स्टाफ के लिए मास्क की व्यवस्था आयोजकों की ज़िम्मेदारी होगी।

3- आयोजकों को नियमानुसार कार्यक्रम स्थलों पर पर्याप्त संख्या में स्वयंसेवक तैनात करने होंगे और अतिरिक्त निगरानी हेतु सीसीटीवी कैमरों की भी व्यवस्था करनी होगी।

4 – इसी तरह कार्यक्रम के आयोजकों और संचालकों को अपने कर्मचारियों के लिए मास्क, फेस शील्ड, हैंड सैनिटाइजर और ग्लब्स आदि की पर्याप्त व्यवस्था करनी होगी।

5- लोगों को जहाँ तक संभव हो सार्वजनिक स्थानों पर न्यूनतम 6 फीट की दूरी का विशेष ध्यान देना होगा। साथ ही फेस कवर या मास्क का प्रयोग अनिवार्य होगा।

6- खांसने, छींकते वक़्त रूमाल का प्रयोग करना हो होगा और सार्वजानिक स्थलों पर थूकने की मनाही रहेगी।

7- सभी के लिए आरोग्य सेतु ऐप अपने मोबाइल में डाउनलोड किया जाना करना अनिवार्य होगा।

8- अनलॉक-5 में अधिकतम 200 लोगों को अनुमति दी गई थी, इसे जारी रखा गया है।

9- धार्मिक स्थलों में प्रतिमा, पवित्र किताब आदि को छूने की मनाही होगी। लंबी रैलियों के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था करनी होगी। अगल एअर कंडीशन का प्रयोग होता है तो 24 से 30 डिग्री के बीच रहेगा।

10- अधिक दिन तक चलने वाले कार्यक्रम जैसे रामलीला, पूजा अनुष्ठान, मेले, प्रदर्शनियों आदि में भी सामाजिक दूरी के नियम का पालन करना होगा। सशर्त और सीमित प्रवेश पर विचार किया जा सकता है।

11- नाटक के मंचन के लिए सिनेमा और थियेटर के लिए जारी गाइडलाइन का पालन किया जाएगा।

12- किसी भी कार्यक्रम, सामाजिक समारोह के लिए पहले स्थान चिह्नित किया जाएगा।

13- रैलियों, धार्मिक जुलूसों के लिए पहले से ही रूट प्लान, शामिल होने वाले लोगों की संख्या, प्रतिमा विसर्जन आदि की साइट आदि तय करनी होगी।

14- आयोजन स्थल पर ऐसा कमरा या स्थल चिह्नित किया जाएगा जहां किसी लक्षण वाले व्यक्ति को एकांतवास में रखा जा सके।

15- आयोजन स्थलों पर दुकान, खोखों आदि को भी सामाजिक दूरी के नियम का पालन करना होगा। सामुदायिक किचन, लंगर आदि में भी सामाजिक दूरी का पालन करना होगा।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी