जंगल में आग बुझाने गये तीन ग्रामीण झुलसे

थराली। पिंडर घाटी के नारायणबगड़ विकासखंड के अंतर्गत रेस गांव के चूंकापानी में दवाग्नि को बुझाने के दौरान 3 महिलाएं एवं 1 पुरूष बुरी तरह से झुलस गए हैं। जिनमें से एक घायल महिला को हाई सेंटर रेफर कर दिया गया। जबकि एक व्यक्ति का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नारायणबगड़ में ही उपचार चल रहा हैं। जबकि दो महिलाओं का गांव में ही उपचार किया जा रहा हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार की देर सांय करीब 6 बजे नारायणबगड़ प्रखंड के अंतर्गत रेस गांव के चूंकापानी तोक के पास के जंगलों में अचानक वनाग्नि भड़क उठी जो कि धीरे-धीरे चूंकापानी तोक के आवादी क्षेत्र की ओर बढ़ने लगी जिसे देख ग्रामीण वनाग्नि को बुझाने के लिए गए। किंतु अचानक हवा के तेज झोंके के कारण आवादी के पास सूखी घास के ढ़ेरों में आग भड़क उठी जिसकी चपेट में आ कर गांव की रामेश्वरी देवी पत्नी भूपाल सिंह नेगी,शशी देवी पत्नी शिशुपाल सिंह रावत,पवित्रा देवी पत्नी मुकेश सिंह एवं मान सिंह पुत्र प्रेम सिंह आग की लपटों में घिर कर झुलस गए।

इसके बाद आग से झुलसे रामेश्वरी देवी एवं मान सिंह के अधिक झुलसने के कारण ग्रामीण उन्हें पीएचसी नारायणबगड़ लाए जहां पर प्राथमिक उपचार के बाद रामेश्वरी देवी की गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों ने हाई सेंटर रेफर कर दिया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नारायणबगड़ के डाक्टर नवीन चन्द्र डिमरी ने बताया कि दूसरे घायल मान सिंह का नारायणबगड़ में ही उपचार किया जा रहा हैं। जबकि झुलसी दो महिलाओं का गांव में ही उपचार किया जा रहा हैं। रेस गांव के ग्राम प्रधान पूरन सिंह रावत ने तहसीलदार नारायणबगड़ को दिए एक पत्र में आरोप लगाया है कि किन्ही अज्ञात आसामाजिक तत्त्वों ने जंगल में आग लगाई हैं, उन्होंने मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग की हैं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी