पुल की नाजुक हालत से ग्रामीण खौफजदा

जोशीमठ। ग्रामीणों के लिए एकमात्र आवागमन के साधन पैदल पुल की हालत ठीक न होने की वजह से ग्रामीणों में भय का माहौल बना हुआ है विकासखंड जोशीमठ के अंतर्गत आने वाले सीमांत गांव सूखी भलगांव को भौंर पाणी से जोड़ने वाला पैदल पुल धीरे-धीरे क्षीण हो रहा है जिससे ग्रामीण काफी परेशान दिखाई दे रहे हैं बता दें कि सूखी भलगांव के ग्रामीणों के पास आवागमन करने के लिए एकमात्र यही पैदल पुल है, इस ही पैदल पुल पर से होकर ग्रामीण अपने रोजमर्रा के कार्य भी करते हैं एवं इस ही पुल पर से घोड़े खच्चरो पर लादकर गांव तक राशन आदि जरूरत का सामान भी पहुंचाया जाता है। ग्राम प्रधान लक्ष्मण सिंह बुटोला का कहना है कि इस पुल का निर्माण लगभग 13 वर्षों पहले ग्रामीण कार्य विभाग द्वारा किया गया था जिसका खर्च लगभग दो करोड़ के आसपास का था, जिसके बाद 13 वर्षों में एक बार भी इस पुल की ओर ध्यान नहीं दिया गया, जिस वजह से यह पुल क्षीण हो गया है, पुल पर लगे नट बोल्ट गिरने की वजह से पुल कमजोर हो चुका है, उनका कहना है कि यदि समय रहते इस पुल की स्थिति को ठीक नहीं किया गया तो यह पुल किसी बड़ी दुर्घटना को भी न्योता दे सकता है कहा कि ग्रामीण भी डर-कर इस पुल पर से आवागमन कर रहे हैं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी