पुरानी पेंशन के मुद्दे को प्रमुखता से रखा प्रत्येक पटल पर रखा जाएगा- राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा

कोटद्वार। रविवार को राज्य व केंद्र कर्मचारियों की प्रमुख मांग पुरानी पेंशन बहाली को लेकर संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारी राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा से मिले। मोर्चा के पदाधिकारियों से पेंशन बहाली पर चर्चा करते हुए सांसद श्री प्रदीप टम्टा जी ने बताया कि कांग्रेस पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे पर गंभीरता से विचार कर रही है। साथ ही कर्मचारियों के इस अत्यंत आवश्यक मुद्दे पर खुले हृदय से समर्थन करती है। श्री प्रदीप टम्टा जी ने कहा कि जिस सार्वजनिक क्षेत्र को क्षमताहीन बताकर आज सरकार द्वारा निजीकरण की ओर धकेला जा रहा है उसी सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों ने वैश्विक आपदा के समय मे प्रथम पंक्ति में डटे रहकर कार्य अपनी क्षमता को सिद्ध किया है। ऐसे में उनकी सामाजिक सुरक्षा का मुद्दा पुरानी पेंशन बहाली उनके प्रति कृतज्ञता दिखाने का अवसर है। एक जन कहीं न कहीं इस अन्याय के प्रति हम भी जिम्मेदार है जो कि हमने समय रहते इसमें सुधार नही किये।
संयुक्त मोर्चे के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य आलोक पांडे व राष्ट्रीय प्रेस सचिव मिलिन्द बिष्ट ने सांसद महोदय को अवगत कराया कि नई पेंशन योजना में सेवानिवृत्त होने के बाद प्राप्त धनराशि गुज़ारे लायक भी नही है। सेवाकाल में मृत्यु होने पर मिलने वाली परिवारिक पेंशन भी अत्यंत अल्प है। पुरानी पेंशन योजना में प्राप्त जी पी एफ सुविधा से कर्मचारी को ऋण लेने की छूट थी जो कि नई पेंशन योजना में कहीं नही है। मोर्चे के पदाधिकारियों ने कहा कि चुनकर देश की संसद में पहुंचने वाले नेतागण कर्मचारियों की पुरानी पेंशन की बात करने में न जाने इतना क्यों हिचक रहे हैं जबकि भविष्य के लिहाज से प्रत्येक सरकारी कर्मचारी इस योजना में स्वयम को ठगा महसूस कर रहा है जिसके कारण कर्मचारियों में अत्यंत रोष का माहौल है।
सांसद प्रदीप टम्टा महोदय ने पुरानी पेंशन बहाली के बाबत हर सम्भव पटल तक इस मुद्दे को पहुंचाने का आश्वासन दिया।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी