हंगामेदार रही निगम की बोर्ड बैठक…….. सम्पति कर रहा सबसे बड़ा मुद्दा……. पढे़ पूरी खबर…

कोटद्वार। नगर निगम की हंगामेदार बोर्ड बैठक में कई प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पारित किया। हालांकि कई विंदुओं पर एक राय न बनने सें पार्षदों के बीच काफी देर तक नोक झोंक भी होती रही है।
नगर निगम स्थित आडोटोरियम सभागार में नगर निगम की महापौर श्रीमती हेमलता नेगी की अध्यक्षता में आयोजित नगर निगम की बोर्ड बैठक में महापौर ने अपने उद्बोधन में कहा कि वर्तमान में नगर निगम को बने हुए दो साल का समय हो गया है, लेकिन विगत दो सालों में धन अभाव के चलते नगर निगम क्षेत्र में अपेक्षित विकास नहीं हो पाया है। कहा कि प्रदेश सरकार से लगातार धन की मांग करने के बाद भी प्रदेश सरकार के द्वारा प्रर्याप्त मात्रा में धन उपलब्ध नहीं करवाया गया है, जिससे नगर निगम बोर्ड को समस्याओं से जूझना पड़ रहा है, कहा कि कोरोना संक्रमण ने भी विकास कार्य प्रभावित हुए हैं। उन्होंने समस्त पार्षदों से अगले तीन सालों में नगर निगम के समग्र विकास अपना योगदान देने की अपील करते हुए कहा कि नगर निगम का समग्र विकास करना समस्त पार्षदों की सामूहिक जिम्मेदारी है।

बुधवार को पूर्व प्रस्तावित नगर निगम की बोर्ड बैठक में सबसे ज्यादा हंगामा पूर्व में स्वकर लगाने को लेकर पूर्व में बोर्ड में पारित प्रस्ताव को लेकर हुआ, एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी के पार्षदो ने कांग्रेस एवं निर्दलीय पार्षदों पर पिछली बैठक में स्वकर लगाये जाने के प्रस्ताव को पारित करने का आरोप लगाया है, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस एवं निर्दलीय पार्षदों ने प्रदेश सरकार पर जानबूझकर सम्पति कर लगाये जाने का आरोप लगाया। हालांकि बाद में समस्त पार्षदों ने सर्वसम्मति से कोटद्वार भाबर की जनता पर स्वकर न लगाये जाने को लेकर सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर दिया है। बैठक में पार्षदों ने निर्माण कार्यो की गुणवत्ता को लेकर भी सवाल उठाते हुए कहा कि वर्तमान में नगर क्षेत्र में जितने भी विकास कार्य कराये जा रहे उन विकास कार्यो की गुणवत्ता निम्न दर्जे की है, पार्षदों ने कहा कि पार्षदों की संस्तुति के बगैर ही ठेकेदारों का भुगतान किया जा रहा है, जिससे जगह-जगह लोगों के द्वारा घटिया निर्माण की शिकायतें की जा रही है। कहा कि भविष्य में जो भी निर्माण कार्य कराये जायं उन निर्माण कार्यो का भुगतान बगैर पार्षदो की संस्तुति के बगैर न किया जाय। बोर्ड बैठक में आवारा पशुओं की समस्या से निजात दिलाये जाने के लिए पशुगणना कर प्रत्येक पशु पर टैग लगाये जाने के प्रस्ताव की भी पुष्टि की गयी। बैठक में कूड़ा निस्तारण के लिए अभी तक ट्रैचिंग ग्राउंड उपलब्ध न होने पर भी पार्षदों ने नगर आयुक्त से अभी तक की गयी कार्यवाही की प्रगति रिपोर्ट मांगी, जिस पर नगर आयुक्त ने कहा कि वर्तमान में कूड़ा निस्तारण के लिए शासन स्तर पर भूमि दिये जाने के लिए लगातार पत्राचार किया जा रहा है। कहा कि फिलहाल प्रत्येक वार्ड में कूड़ा निस्तारण के लिए व्यवस्था बनाये जाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा पार्षदों ने क्षतिग्रस्त सिंचाई नहरों एवं गूलों का भी मुद्दा उठाते हुए कहा कि वर्तमान में कोटद्वार भाबर की अधिकांश लोगा खेती किसानी पर निर्भर है, लेकिन क्षतिग्रस्त सिंचाई नहरों के चलते किसानों को पर्याप्त मात्रा में सिंचाई का पानी नहीं मिल पा रहा है, पार्षदों ने कहा कि सिंचाई नहरों की मरम्मत की जिम्मेदारी नगर निगम की होनी चाहिए। जिस पर नगर आयुक्त के द्वारा उक्त प्रस्ताव को शासन स्तर पर भेजने का आश्वासन दिया गया।

बैठक में इन बिंदुओं पर हुई चर्चा
कोटद्वार। बुधवार को हुई बोर्ड बैठक में पार्षद कुलदीप रावत के द्वारा क्षतिग्रस्त सिंचाई गूलों की मरम्मत, बालिका इंटर कालेज के निकट जलभराव, सुखपाल शाह के द्वारा झंडीचौड में शौचालय विहीन परिवारों को शौचालय दिये जाने, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास दिये जाने, झंडीचौड में नई विद्युत लाइन बिछाने, सूरज प्रसाद कांति के द्वारा काशीरामपुर तत्ला में स्थित गौसदन की भूमि को नगर निगम को हस्तातंरित किये जाने, पार्षद राकेश बिष्ट के द्वारा किशनपुरी में महिला शौचालय बनाये जाने, विजेता रावत के द्वारा लोगों के द्वारा सिंचाई गूलों में गंदा पानी छोडे जाने, गायत्री भट्ट के द्वारा जल निगम के द्वारा नई पाइप लाइन बिछाने, प्रवेन्द्र सिंह रावत के द्वारा काशीरामपुर से सूर्यनगर शिवालिक नगर स्थित पनियाली गदेरे से बाढ सुरक्षा निर्माण कार्य करवाये जाने, जगदीश मेहरा द्वारा जशोघर पुर स्थित फैक्ट्रियों में कार्यरत मजदूरों का फैक्ट्री संचालकों के द्वारा शोषण करने, लोकमणिपुर में लोक निर्माण विभाग के द्वारा नाली निर्माण की जांच करने, मनोज पांथरी एवं मिनाक्षी कोटनाला के द्वारा गाड़ीघाट स्थित गोलोक धाम के निर्माण का अनापत्ति प्रमाण पत्र देने, आशा चौहान ने वार्ड नं़ 14 में कूडादान निर्माण में हो रही देरी व सफाई कर्मचारियों के वेतन बढाये जाने, विजेता रावत के द्वारा वार्डो में सफाई कर्मचारी बढाये जाने सहित समस्त पार्षदो के द्वारा उठाये गये 43 बिंदुओं पर चर्चा की गयी। समस्त प्रस्तावों की आगामी बैठक में पुष्टि की जायेगी।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी