दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने वाले फरार आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

कोटद्वार। पौडी पुलिस ने दलित युवती के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने वाले फरार दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने पुलिस टीम को ढाई हजार का ईनाम की घोषणा की है।
गौरतलब है कि राजस्व पुलिस चौकी सितोनस्यूँ पौड़ी में एक शिकायत प्रार्थना पत्र दिया कि अमित एवं आशीष द्वारा एक युवती के साथ साथ दुष्कर्म कर जान से मारने की धमकी दी। जिस सम्बन्ध में राजस्व पुलिस चौकी सितोनस्यूँ में मु0अ0सं0 01/2021 धारा 376/323/506 भादवि0 व धारा 3 (क) के तहत अमित उर्फ संतू व आशीष के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया। अभियोग की गम्भीरता को देखते हुये विवेचना राजस्व पुलिस से रेगूलर पुलिस को स्थानान्तरित की गयी, जिसके फलस्वरूप वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कु0 पी0 रेणुका देवी द्वारा महिला सम्बन्धी अपराध पर तत्काल कार्यवाही कर अभियुक्तो की शीघ्र गिरफ्तारी हेतु निर्देशित किया। जिसके क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक कोटद्वार, श्रीमती मनीषा जोशी के निर्देशन, क्षेत्राधिकारी सदर पौड़ी प्रेमलाल टम्टा के प्रर्यवेक्षण, प्रभारी निरीक्षक विनोद सिंह गुसांई, प्रभारी सी.आई.यू. विजय सिंह, व0उ0नि0 महेश रावत, उ0नि0 बजिन्द्र सिंह के नेतृत्व में ती टीम (तकनीकी व पुलिस टीम) का गठन किया गया। गठित टीमों द्वारा अभियुक्तगणों की गिरफ्तारी हेतु उनके घरों एंव सम्भावित स्थानों पर दबिश देते हुए अथक प्रयास से पुलिस टीम- 1 द्वारा अभियुक्त आशीष को 27 मार्च को पौड़ी क्षेत्रान्तर्गत से गिरफ्तार किया गया व पुलिस टीम-2 द्वारा अभियुक्त अमित उर्फ संतू को 27 मार्च को 6 वी गढ़वाल राइफल पिथौरागढ़ से गिरफ्तार किया गया । अभियुक्त अमित ने पूछाताछ में बताया कि वह अपने दोस्त आशीष बाईक से खोलाचौरी बाजार घूमने आये थे। जहा उन्होंने शराब पी और वापस घर की और आते समय रोड़ पर एक लड़की अकेली दिखी, उन दोनों ने युवती को बहला फुसलाकर उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। तथा लडकी को बोला कि अगर वह किसी को बतायेगी तो वो उसे जान से मार देगे। पुलिस के द्वारा अभियुक्तगणों के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी