उत्तराखंड के स्थापना दिवस पर ग्राफिक एरा में काव्य संध्या

गढ़वाल व कुमाऊं की संस्कृति के कई रंग छिटके
भीमताल, 10 नवंबर। ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी परिसर में उत्तराखंड का स्थापना दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर गीत संध्या में गढ़वाल और कुमाऊं की संस्कृति के कई रंगे छिटके। ग्राफिक एरा एजुकेशनल ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. कमल घनशाला ने कहा कि ग्राफिक एरा ने उत्तराखंड में प्रोफेशनल शिक्षा को सुलभ बनाने के लिए बीते दस वर्षों में तीन परिसरों की स्थापना करके विकास और समृद्धि की नई राह खोली है।
ग्राफिक एरा के परिसर में देर शाम गीत संध्या शुरू हुई। गीत संध्या में डॉ. कमल घनशाला ने खुद तरन्नुम में कई गीत सुनाकर लोगों को नाचने के लिए मजबूर कर दिया। उन्होंने खूब तालियां बटोरी। इस अवसर पर डॉ. घनशाला ने कहा कि उत्तराखंड के विकास में योगदान देते हुए ग्राफिक एरा ने पिछले दस वर्षों में बहुत बड़ा निवेश करके देहरादून, भीमताल और हल्द्वानी में विश्वविद्यालय के परिसर खोले हैं। इनके जरिये जहां सैकड़ों लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार दिया गया है, वहीं हजारों लोग परोक्ष रूप से रोजगार से जुड़े हैं। इन परिसरों में उच्च स्तरीय प्रोफेशनल शिक्षा की व्यवस्था करके युवाओं का भविष्य संवारने का कार्य किया जा रहा है। इन परिसरों से हर साल बड़ी संख्या में युवाओं का देश विदेश की प्रमुख कम्पनियों में चयन हो रहा है। इससे उनके घर परिवार के साथ ही दूर दराज के गांवों तक खुशहाली और समृद्धि पहुंच रही है।
उन्होंने बताया कि ग्राफिक एरा ने राज्य स्थापना के बाद पहाड़ों पर विश्वविद्यालय खोलने की पहल करने के साथ ही उत्तराखंड के सभी युवाओं को 25 प्रतिशत छूट देकर ऐसी नजीर पेश की है जो दूसरों के लिए प्रेरणा बन गई। अब देहरादून में एक विशाल अस्पताल का निर्माण अंतिम दौर में पहुंच रहा है। यह ग्राफिक एरा के सेवा के क्षेत्र का एक नया और विनम्र विस्तार है।
गीत संध्या में गढ़वाली और कुमाऊं की संस्कृति से जुड़े गाने भी बहुत पसंद किए गए। स्थापना दिवस कार्यक्रम में डॉ. मनोज लोहानी, दिवस तिवारी, जेम्स कुंजवाल, पूनम ओझा और अमरीश शर्मा ने भी गीत सुनाकर वाहवाही लूटी। विश्वविद्यालय के हल्द्वानी परिसर के शिक्षक भी देर रात तक चले इस समारोह में शामिल हुए।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी