मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-यूजी 2020 के नतीजे जारी, 680 अंकों के साथ दून के उज्जवल शीर्ष पर

ज्ञात हो कि, राष्ट्रीय परीक्षा एंजेंसी ने बीते शुक्रवार शाम नीट यूजी 2020 परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया है। परीक्षा में सम्मिलित हुए 14 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने लम्बे इंतज़ार के बाद अपना रिजल्ट परीक्षा पोर्टल, ntaneet.nic.in पर चेक किया। लेकिन, वेबसाइट के बार-बार हैंग हो जाने के चलते उम्मीदवारों को रिजल्ट के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। वेबसाइट कभी खुलती, कभी बंद होती रही। इन सब के बीच इस परीक्षा में उत्तराखंड के होनहारों ने खुद को साबित कर दिखाया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, खबर लिखे जाने तक दून के उज्जवल चौधरी 680 अंकों के साथ पहले स्थान पर थे। वहीं, इसके अलावा रुद्रपुर निवासी हर्ष गोस्वामी ने इस परीक्षा में 677 अंक प्राप्त किए हैं। दून में रहकर मेडिकल की तैयारी कर रहे रंजन कुमार ने 649 और शंकर सैनी ने परीक्षा में 618 अंक अर्जित किये हैं। वहीं, दून निवासी अविशा गहलोत ने 626, मीनाक्षी ने 610 अंक, तमन्ना मंसूरी ने 602 अंक, नंदिनी मित्तल ने 587, हर्ष बंसल ने 590, अक्षित चंद्रा ने 588, साक्षी ने 570 अंक, शानु मलिक ने 566 व मोहित पाल ने 526 अंक हासिल किए थे।

नीट में 680 अंक अर्जित करने वाले उज्ज्वल चौधरी ने कोरोना काल के दौरान लगे लॉकडाउन को अवसर में तब्दील कर सफ़लता पाई है। इसका नतीजा मिलने के बाद वह बेहद उत्साहित हैं। खबर लिखे जाने तक वह उत्तराखंड में शीर्ष स्थान पर थे। सहस्रधारा रोड स्थित आइटी पार्क के समीप दून डिवाइन निवासी उज्ज्वल के पिता रामपाल चौधरी बिजनेसमैन हैं। उनकी मां गीता चौधरी संस्कार इंटरनेशनल स्कूल में शिक्षिका हैं। उज्ज्वल ने 10 सीजीपीए के साथ 10वीं पास करने के बाद गत वर्ष 96.4 प्रतिशत अंकों के साथ स्कॉलर्स होम से 12वीं की परीक्षा पास की थी। पिछले साल भी नीट दिया पर अच्छे अंक नहीं मिल पाए थे। इस साल उज्ज्वल ने जी जान से तैयारी शुरू की। उन्होंने बताया कि इस बीच कोरोना की वजह से लॉकडाउन लग गया, जिसकी वजह से प्रवेश परीक्षा की तिथि आगे बढ़ रही थी।

उज्ज्वल ने इसे अवसर के तौर पर लिया। अपनी तैयारी को और पुख्ता किया, जिसका नतीजा अब सामने है। उनके शिक्षक एवं मार्गदर्शक विपिन बलूनी ने बताया कि उज्ज्वल लगातार पढ़ाई के साथ ही टेस्ट सीरीज में भी शानदार प्रदर्शन करते आ रहे थे। उन्होंने बताया कि, उज्ज्वल ने नीट की तैयारी के दौरान उन्होंने पूरी तरह स्मार्ट फोन व सोशल मीडिया से दूरी बनाए रखी।

प्रांतीय चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा संघ के पूर्व अध्यक्ष एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एसके गोस्वामी के बेटे हर्ष ने भी नीट में शानदार सफलता हासिल की है। उन्होंने परीक्षा में 677 अंक हासिल किए हैं। यह सफलता उन्हें पहले ही प्रयास में मिली है। हर्ष ने बताया कि, वह आगे चलकर पिता की ही तरह उत्तराखंड में सेवा देना चाहते हैं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी