कोटद्वार : ब्रॉडबैंड सेवाओं में लगा ग्रहण, नहीं मिले प्रमाणपत्र न ही परिवार रजिस्टर, बैरंग लौटने को मज़बूर हैं लोग

कोटद्वार : प्रखंड रिखणीखाल में आये दिन ब्रॉडबैंड सेवाओं में ग्रहण लगता दिखाई दे रहा है। इन सबमें ब्लॉक मुख्यालय का ई डिस्ट्रिक्ट हो या मनरेगा का स्वान हो या काम चलाऊ तहसील सभी जगह से दूरदराज इलाकों से आए लोग अपना सा मुंह लेकर लौटने पर मजबूर हैं। ग्रामसभा कांडा के दूरस्थ गांव तैडिया लगभग पचास किलोमीटर दूर से आये पिच्चासी वर्षीय पूर्व शिक्षक विश्वंभर दत्त ध्यानी को आय प्रमाण पत्र हेतु परिवार रजिस्टर नकल की आवश्यकता आन पड़ी तो सारा दिन गुजर गया, लेकिन परिवार रजिस्टर नकल नहीं मिलने से वे आय के लिए भी आवेदन नहीं कर सके।

उधर तहसील में भी सबकुछ शांत ही था। न तो खतौनी की नकल निकली और ना ही अन्य कार्य हो पाये। सायं पांच बजे कार्यालय बंद होते देख बुजुर्ग की इंतजारी की इंतिहा ने नेटवर्किंग ब्राडबैंड सेवा को मन ही मन भले ही कोसा हो, लेकिन इतना कहकर पीछे से बाहर चल कर पुन: आने की हामी भरी और रिश्तेदारी में बयेला तल्ला चले गए।

अगले दिन भी वे कार्यालय में साढ़े नौ बजे समय से पहले पहुंच गए, लेकिन फिर वही दुखड़ा सुनने में आया। दोपहर एक बजे तक देखते हुए खाली हाथ टैक्सी बुक कर वापस घर आ गए। इस दिन तो बगल में खड़े दरखास्तीखाल निवासी भूपेंद्र सिंह रावत ने जिलाधिकारी कार्यालय, बीएसएनएल श्रीनगर और जिला ई डिस्ट्रिक्ट में फोन किया लेकिन कोई समाधान नहीं। बता दें, यह परेशानी मात्र तैड़िया कांडा की नहीं, अपितु टकोलीखाल के बनगढ़,बुलेखा,डाबरू,परंडी,खनेता ,सिलगांव तोल्यूंडांडा डबराड़ के लोगों की आम हो चली है।

गौरतलब है कि गढ़वाल में सर्वाधिक नेटवर्किंग ब्राडबैंड सेवा रिखणीखाल में ही बाधित रहती है यह कतिपय कारणों से हो सकता है लेकिन अमूमन मंदाल उद्गम स्थल से रामगंगा संगम तक मंदाल घाटी नेटवर्क बिना आज भी आदमयुगीन जीवन जीने को बाध्य हैं। शायद डिजिटल इंडिया का यही सच लोगों के जीवन में उजाले की बजाय अंधियारा पसार रहा है। इतने बड़े मुख्यालय व तहसील के साथ प्रधान डाकघर,पीएनबी,जिला सहकारी बैंक व ग्रामीण बैंक ,इंटर कालेज, हाईस्कूल व खंड व उप शिक्षा अधिकारी कार्यालय इससे लाभान्वित होते हों तो फिर खाल- धारों कोनों में बसे ग्रामीणों की मनोदशा क्या हो सकती है चिंताजनक है।

यद्यपि की मर्तबा रिखणीखाल क्षेत्र की क्षेत्र पंचायत सदस्य कर्तिया बिनीता ध्यानी ने लोकसभा सांसद तीरथ सिंह रावत तथा राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी को ,केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को क्षेत्र की बदहाल नेटवर्क व्यवस्था के तहत आगाह कर पत्र प्रेषित किये जिनपर विगत लोकसभा मानसून सत्र व राज्यसभा में माननीयों ने प्रश्नकाल में बखूबी ध्यानाकृष्ट कराया है अब देखना है कि बिल्ली के भाग्य से रिखणीखाल के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल के दो तिहाई भाग के लिए नेटवर्क रूपी छींका कब फूटता है??

रिखणीखाल के कर्तिया टावर व क्वीराली चपड़ेत हेतु डीजीएम बीएसएनएल एस एन रेड्डी का कहना है कि चिन्हित टावरों को ओएफसी लाइनों से जोड़ने हेतु शासन/सरकार को प्रस्ताव भेजा जा रहा है स्वीकृति मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी