वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस लंदन पुरस्कार से सम्मानित हुई खिर्सू की आशा

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस लंदन पुरस्कार से सम्मानित हुई खिर्सू की आशा
0 0
Read Time:2 Minute, 56 Second

खिर्सू ब्लाक के सरणा गांव की रहने वाली कवियत्री डा. आशा बिष्ट को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस लंदन के पुरस्कार से नवाजा गया है। भारत रत्न विजेताओं पर हुए शोध आधारित अंतर्राष्ट्रीय स्तर की काव्यमाला में डा. आशा ने 11वां स्थान हासिल किया है। क्षेत्रीय विधायक एवं प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत ने डा. आशा बिष्ट को सम्मानित होने पर खुशी जाहिर करते हुए शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के लिए यह गौरव की बात है। प्रथम अंतर्राष्ट्रीय भारत रत्न काव्यमाला में देश के विभिन्न हिस्सों से 48 साहित्यकारों का चयन किया गया। उत्तराखंड से एकमात्र विकास खंड खिर्सू के सरणा गांव की रहने वाली कवियत्री डा. आशा बिष्ट का चयन हुआ। डा. आशा की देश के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद पर शोधपरक काव्य रचना को काव्यमाला में शामिल किया गया। काव्यमाला में देश के विभिन्न हिस्सों से आई रचनाओं में उनकी रचना को 11वां स्थान दिया गया है। डा. आशा बिष्ट साहित्य सृजन के क्षेत्र में ‌लगातार अहम योगदान दे रही हैं। गढ़वाल की लोक गाथाओं पर भी उन्होंने शोध किया है। वे गढ़वाल विवि के बीजीआर परिसर पौड़ी में 2015 से 2021 तक असिस्टेंट प्रोफेसर (गेस्ट फेकल्टी) के रुप में भी सेवाएं दे चुकी हैं। इससे पहले डा. आशा को गोल्डन बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड अवार्ड से सम्मानित भी किया जा चुका है। पूर्व ग्राम प्रधान सरणा धीरेंद्र सिंह भंडारी ने कहा कि डा. आशा ने गांव व क्षेत्र का नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रोशन किया है। उनकी इस उपलब्धि पर बीजीआर परिसर पौड़ी शिक्षकों, कर्मचारियों, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य अनिल भंडारी, पूर्व प्रधान रोशनी देवी, अध्यापक शंकर सिंह भंडारी, ग्रामीण मंगल सिंह ‌सिंह, कलम सिंह खत्री, राम सिंह, गणेश सिंह, वीरेंद्र सिंह अमर सिंह सहित अनेक ग्रामीणों ने खुशी जाहिर की है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x