गौरव डंडरियाल ने रक्तदान कर सैनिक परिवार के नवजात शिशु की बचायी जान

गौरव डंडरियाल ने रक्तदान कर सैनिक परिवार के नवजात शिशु की बचायी जान

कोटद्वार। बिजनौर के एक प्राईवेट नर्सिंग होम में एडमिट कोटद्वार निवासी सैनिक परिवार के नवजात शिशु को रक्त की आवश्यकता पर गौरव डंडरियाल ने रक्तदान करने की श्रंखला को आगे बढाते हुए 108वीं बार रक्तदान कर नवजात शिशु को जीवनदान दिया है। इससे पहले गौरव डंडरियाल 107 बार रक्तदान कर लोगों के जीवन को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके है।


समाज सेवी तथा सेवाभारती के उपाध्यक्ष व रक्तदाता ग्रुप के संचालक दलजीत सिंह ने बताया कि वर्तमान में कोटद्वार निवासी एक सैनिक परिवार का बच्चा बिजनौर स्थित एक नर्सिंग होम में भर्ती है, जिसे रक्त की सख्त आवश्यकता पड़ने पर परिजनों के द्वारा सूचना दिये जाने पर उन्होंने गौरव डंडरियाल के पिता गोविंद डंडरियाल से सम्पर्क किया। गोविंद डंडरियाल ने कीरत पुर में एक पेपर मिल में कार्यरत अपने पुत्र गौरव डंडरियाल को वस्तु स्थिति से अवगत कराया। सूचना मिलते ही गौरव डंडरियाल ने सक्रियता दिखाते हुए लगभग सोलह किलोमीटर चलकर उक्त नर्सिंग होम में पहुंचकर सैनिक परिवार के नवजात शिशु को रक्तदान कर एक नई मिशाल कायम की है। समाज सेवी दलजीत ने कहा कि गौरव डंडरियाल के पिता, माता, भाई, सहित पूरा परिवार कई बार रक्तदान कर चुका है। जिससे कई जिंदगियों को नवजीवन मिला है। उन्होंने गौरव डंडरियाल के द्वारा नवजात शिशु के लिए रक्तदान करने पर आभार व्यक्त करते हुए कहा कि गौरव डंडरियाल ने इस मुसीबत की घड़ी में एक सैनिक परिवार के कुलदीपक के ज्योति की रक्षा की है।

admin