पहाड़ों के प्रति सर्मपित डाॅ एसडी जोशी, उत्तरकाशी में लगाया निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर

डाॅक्टर को धरती का भगवान कहा जाता है। हालाँकि, आज के इस आधुनिक युग में कुछ डाॅक्टर इन पंक्तियों के दायरे में दिखाई नहीं देते हैं। इन्हीं में से एक डाॅक्टर हैं एसडी जोशी। उत्तराखंड के जाने माने और लोकप्रिय फिजीशियन डाॅक्टर एसडी जोशी को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। अपने सौम्य व्यक्तित्व और क्लीनिक में आने वाले मरीजों के प्रति समर्पण की उनकी भावना से लोकप्रिय डाॅ जोशी की उत्तराखंड में चहुँ ओर फ़ैली ख़्याति प्राप्त कर चुके हैं।उल्लेखनीय है कि, डाॅक्टर एसडी जोशी द्वारा जिन-जिन जनपदों में सेवनिर्वित होने से पूर्व में सेवाएं दे चुके हैं, वहां से मरीज़ अबतलक भी इनकी सलाह लेने या इनको दिखाने के लिये देहरादून स्थित इनके शंकर क्लीनिक में आते हैं। डाॅ जोशी अपनी क्लीनिक में आये किसी भी मरीज़ को निराश नहीं करते हैं। चिकित्सा सेवा के तमाम संगठनों से जुड़े डाॅ एसडी जोशी प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ के 2 दफ़ा निर्विरोध अध्यक्ष पद पर भी आसीन रहे हैं।

वरिष्ठ फिजीशियन डाॅ एसडी जोशी की उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में जाकर लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं देने की अनूठी पहल आज भी जारी है। पौड़ी, चमोली के बाद डाॅ जोशी ने उत्तरकाशी जनपद में निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर लगाया। जहाँ पहुंचने पर डाॅ एसडी जोशी का भव्य स्वागत किया गया। इस मौके पर उत्तरकाशी जनपद के सीएमओ डाॅ डीपी जोशी भी मौजूद रहे। डूंडा और भटवाड़ी ब्लाॅक में आयोजित निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में वरिष्ठ फिजिशीयन डाॅ जोशी ने 300 से अधिक मरीज़ों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। इन मरीजों में सामान्य बीमारियों के आलावा 100 से अधिक मरीज हृदय रोग व शुगर से संबधित बीमारियों से ग्रसित थे। हृदय रोग से संबधित मरीजों का मौके पर निःशुल्क इसीजी व शुगर के रोगियों की निःशुल्क शुगर जाँच की गई। सभी जाँचें पूरे एतिहात के साथ डाॅ जोशी की टीम के महत्वपूर्ण सदस्य कपिल थापा की अहम भूमिका रही।

डाॅ जोशी ने निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में स्वास्थ्य जाँच हेतु आए प्रत्येक मरीज़ को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरूक किया और कोरोना से सुरक्षा हेतु सरकार द्वारा बनाये गए नियमों के पालन करने को लेकर प्रेरित भी किया। साथ ही उन्हें कोरोना के लक्षण व बचाव के तरीकों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इसके अलावा वायरल संक्रमण व कोरोना संक्रमण के बीच अंतर को भी मरीजों को समझाया। डाॅ जोशी ने स्वास्थ्य जाँच को आये लोगों से कहा कि, बीमारियों को छिपाने के बज़ाय डाॅक्टर की सलाह लें। बिना डॉक्टरी सलाह के अन्यत्र किसी प्रकार की दवा का सेवन करने से बचें।

जनपद उत्तरकाशी में लगाये गये निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में विचार एक नई सोच संस्था के सदस्य दीपक जुगराण ने स्वास्थ्य जाँच हेतु आये सभी लोगों को निःशुल्क मास्क व सेनेटाइजर का वितरण किया और सभी लोगों को मास्क की अहमियत बताते हुए घर से बाहर बिना मास्क के न निकले इस बात पर जोर दिया। इसके अलावा उन्होंने लोगों से मास्क पहनने के साथ सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की भी अपील की। लोगों ने विचार एक नई सोच संस्था के कार्य की सराहना करते हुए कोरोना जागरूकता को लेकर उनके प्रयास को एक उम्दा पहल बताया।

वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. एसडी जोशी ने कहा कि, लोगों की सुविधा के लिए लगाये जाने वाले स्वास्थ्य शिविरों से जनता को राहत मिलती है। कहा कि, वह लोग जो महंगी दवाईयां ख़रीदने में असमर्थ हैं वे भी इस स्वास्थ्य शिविरों में आकर अपनी स्वस्थ्य जांचें करा सकते हैं। डाॅ एसडी जोशी ने कहा कि, वह आगे भी समय-समय पर पहाड़ों में जाकर निःशुल्क स्वास्थ्य शिविरों के जरिये जनता को लाभान्वित करते रहेंगे।

ग़ौरतलब है कि, पहाड़ के दूरस्थ इलाकों में रह रहे लोग जहाँ अभी तक स्वास्थ्य सेवाएं नहीं पहुँच पाई है, उन लोगों तक चलो गांव की ओर मुहिम के जरिए निःशुल्क स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही है। डाॅक्टर जोशी ने कहना है कि, पहाड़ों में स्वास्थ्य सेवाओं को बहाल किये जाने को लेकर सरकार के साथ-साथ हम सभी डाॅक्टरों को अपने स्तर से योगदान देना होगा।

डाॅक्टर जोशी ने बताया कि, इसकी शुरूआत मैने स्वयं से की है। मेरा गांव चमोली जनपद के अंतर्गत आता है। जहाँ बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं की हालत किसी से छिपी नहीं है। इसलिये मैं प्रत्येक 2 माह में एक स्वास्थ्य शिविर अपने गांव में लगाता हूं। जिससे मेरे गांव के साथ ही आस पास के गांव के लोगों को स्वास्थ्य संबधी जागरूकता के साथ ही तमाम बीमारियों का सही ढंग से ईलाज हो सके। इसके साथ ही इस शिविर में सभी दवाईयां निशुल्क दी जाती हैं।

चमोली के साथ पौड़ी जनपद के अधिकतर गांवों में विचार एक नई सोच संस्था के साथ मिलकर निःशुल्क शिविर का आयोजन भी किये जा रहे हैं। उत्तरकाशी जनपद में भी निःशुल्क शिविर लगाया गया है। जहाँ 300 से अधिक मरीज़ों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है। इसमें से 100 से अधिक मरीजों की ईसीजी व शुगर जाँच निशुल्क की गई है। डाॅक्टर जोशी ने कहा कि, मेरी यह यात्रा लगातार जारी रहेगी। मेरी कोशिश है प्रत्येक जनपद में दुर्गम गांवों में और जहाँ जरूरत हो वहां निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन करता रहूं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी