धुमाकोट : महाविद्यालय पटोटिया नैनीडांडा में शहीद हवलदार राजे सिंह की मूर्ति का किया गया अनावरण

धुमाकोट: राजकीय महाविद्यालय पटोटिया नैनीडांडा में आयोजित एक कार्यक्रम में सेना द्वारा स्थापित वायु रक्षा इकाई के शहीद हवलदार राजे सिंह की मूर्ति का अनावरण शहीद की धर्मपत्नी विमला देवी द्वारा रिबन काटकर किया गया। इस मौके पर शहीद के परिजनों सहित अनेक ग्रामीण व विधालय परिवार के सदस्य मौजूद थे।

महाविद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में पूजा अर्चना के पश्चात शहीद की धर्मपत्नी विमला देवी ने रिबन काटकर मूर्ति का अनावरण किया। इस मौके पर सेना की 326 एडी यूनिट की तरफ से मौजूद हवलदार नवीन चंदेल व महाविद्यालय के प्राचार्य बिजेंद्र प्रसाद उनियाल व पूर्व ब्लॉक प्रमुख के पति बीरेंद्र पटवाल ने शहीद की धर्मपत्नी विमला देवी को शाल उढाकर व माला पहनाकर सम्मानित किया।

इस मौके पर चमन सिंह नेगी, शिशुपाल सिंह रावत, चन्द्रपाल सिंह चन्द, दीनदयाल सिंह रावत, मनीष सुन्द्रियाल, हरीश रावत, दीपक रावत, कुलदीप सिंह, महिपाल सिंह आदि उपस्थित थे।

इस मौके पर अपने संबोधन में प्राचार्य उनियाल ने कहा कि मातृभूमि की रक्षा करने वाले किसी भी सैनिक की शहादत ब्यर्थ नहीं जाती। किसी सैनिक को मरणोपरांत सम्मान मिलना क्षेत्र के लिए बड़े ही गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि यह स्मारक आने वाली पीढ़ी को देश की सेवा का एक सन्देश देगा।

धुमाकोट तहसील के ग्राम जंदरखडी (टांडीयू)निवासी वायु रक्षा इकाई (एडी) के हवलदार राजे सिंह 28 मई 1991 में कारगिल के काकसिर क्षेत्र के 4305 पॉइंट में अपनी 23 एमएम 2 बी गन पर तैनात थे। पाकिस्तान की तरफ से लगातार भारी गोलाबारी कर उनकी पोस्ट को निशाना बनाया जा रहा था।

हवलदार राजे सिंह भी अपने साथियों के साथ अपनी गन से दुश्मन को करारा जवाब दे रहे थे। दुश्मन द्वारा की जा रही भारी गोलाबारी का जवाब देते हुए वह बुरी तरह जख्मी हो गए थे। लेकिन जख्मी अवस्था में भी उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक अदम्य साहस का परिचय देते हुये गोले बरसा रही दुश्मन की एंटी एयर क्राफ्ट गन को उड़ा दिया था। उनकी इस वीरता पर सेना ने उनको मरणोपरांत सेना मैडल से सम्मानित किया था।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी