प्राथमिक शिक्षकों को राशन कार्ड सत्यापन कार्य से मुक्त करने की मांग

प्राथमिक शिक्षकों को राशन कार्ड सत्यापन कार्य से मुक्त करने की मांग
0 0
Read Time:3 Minute, 41 Second

कोटद्वार। उत्तराखण्ड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ जनपद पौडी गढवाल ने जनपद के प्राथमिक शिक्षकों को राशन कार्ड सत्यापन कार्य से मुक्त करने को लेकर जिलाधिकारी को ज्ञापन प्रेषित किया।
प्रेषित ज्ञापन में उन्होंने कहा कि जनपद पौडी गढवाल में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अन्तर्गत जारी राज्य खाद्य योजना व राष्ट्रीय खाद्य योजना राशन कार्डो के घर-घर जाकर सत्यापन व जॉच कार्य जनपद के प्राथमिक शिक्षकों से करवाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्राथमिक शिक्षक विद्यालयों में भौतिक रुप से उपस्थिति देकर विद्यालय के छात्रों को ऑफलाईन, ऑनलाईन शिक्षण कार्य, छात्रों को वर्क सीट कार्य, वर्चुवल प्रशिक्षण व अन्य प्रकार के ऑनलाईन प्रशिक्षण कार्यक्रम कर रहें हैें तथा पहाडी क्षेत्र होने के कारण प्राथमिक शिक्षक दूरसंचार की व्यवस्था ठीक न होने के कारण छात्रों को मोबाईल फोन व नेटवर्क की उपलब्धता के अनुसार ही पठन-पाठन करवाते हैं जबकि शिक्षा का अधिकार अधिनियम में शिक्षकों से शिक्षण कार्य के अलावा कोई अतिरिक्त कार्य किए जाने का प्रावधान नहीं हैे। उन्होंने कहा कि इस कार्य आरटीई अधिनियम 2009 का खुला उल्लघंन हैें और राशन कार्ड बनाने में पूर्व में बहुत सारी विसंगतियां व्याप्त है, यदि अध्यापक इस कार्य को करता है तो वेवजह ही वह ग्राम वासियों की राजनीति का शिकार होता है तथा विवाद के केन्द्र में आता है। उन्होंने कहा कि यह न हमारे शिक्षको के हित में है और न भविष्य में छात्रो के हित में हैें जिस कारण लम्बे समय से एक ही कार्यक्षेत्र में तैनात शिक्षकों में असमंजस की स्थिति उत्पन्न हैं कि अगर किसी का राशन कार्ड निरस्त होता हैं तो वह गांव वालो के कोप का भागी बनेगा जिससे शिक्षण कार्य भी प्रभावित होगा व छात्रों के पठन-पाठन व शिक्षा विभाग द्वारा प्रत्येक दिन मांगी जा रही सूचनाएं बाधित होंगी। इस दौरान उन्होंने जिलाधिकारी से जनपद के प्राथमिक विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के हित को मध्येनजर रखते हुए प्राथमिक शिक्षकों को उक्त कार्य से मुक्त किये जाने की मांग की जिससे शिक्षक अपने कर्तव्यों का निर्वहन छात्र हित में पूर्ण मनोयोग से कर सकें। साथ ही कहा कि यदि फिर भी उक्त कार्य के लिए बाध्य किया जाता है तो संगठन आन्दोलन करने को बाध्य होगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी विभाग की होगी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x