सफाई कर्मचारियों की ठेका प्रथा को समाप्त करने की मांग

सफाई कर्मचारियों की ठेका प्रथा को समाप्त करने की मांग

कोटद्वार। देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले सफाई कर्मचारियों ने 11 सूत्रीय मांगों को लेकर नगर निगम कार्यालय के सम्मुख धरना प्रदर्शन करते हुए मांगों के निस्तारण करने की मांग की है।सफाई कर्मचारी संघ ने नगर आयुक्त को ग्यारह सूत्रीय मांग पत्र सौंपते हुए सफाई कर्मचारियों के ठेका प्रथा को समाप्त करने की मांग करते हुए कहा कि वर्तमान में सम्पूर्ण उत्तराखंड में निकाय सहित विभिन्न विभागों में सफाई कर्मचारियों को ठेके पर रखा जा रहा है, जोकि सफाई कर्मचारियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। 12 जून 2015 के ढांचे में शसोधन किये जाने की मांग करते हुए आउट सोर्स के बजाय स्थाई पद मानते हुए सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति की जाय। इसके अलावा अकेन्द्रियत एवं केन्द्रीयत कर्मचारियों की नियमावली में शंसोधन किये जाने, मृतक आश्रितों को नियुक्ति देने, पुरानी पेंशन बहाल करने, सफाई कर्मचारियों का जीवन बीमा करवाने, सफाई कर्मचारियों को राज्य कर्मचारियों की भांति भत्ता दिये जाने, सफाई कर्मचारियों को आंवटित आवासों पर मालिकाना हक दिये जाने, भूमिहीन बाल्मिकी समाज को स्थाई निवास प्रमाण पत्र सहित ग्यारह सूत्रीय मांगों को पूरा करने की मांंग की है। इस मौके पर संघ के सरक्षक नरेन्द्र घाघट, अध्यक्ष शशि, उपाध्यक्ष धीरज गौडियाल, अजय कोशियाल, मुकेश गौडियाल, वीरेन्द्र, धर्मेन्द्र, दिनेश कुमार, महेन्द्र घाघट, रीना, गुडी, ममता, प्रवेश, मीनू आदि मौजूद थे।

admin