कूड़ा कंटेनरों के हटाने पर भड़का पार्षद, नगर निगम कार्यालय के आगे फेंका कूड़ा

कूड़ा कंटेनरों के हटाने पर भड़का पार्षद, नगर निगम कार्यालय के आगे फेंका कूड़ा
0 0
Read Time:3 Minute, 52 Second

कोटद्वार। नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत मोटाढांक स्थित वार्ड नं0 31 के पार्षद सौरभ नौडियाल ने वार्ड में कूडा निस्तारण के लिए रखे गये कंटेनरों को हटाये जाने का विरोध करते हुए नगर निगम कार्यालय के आगे का ढेर लगा दिया। पार्षद सौरभ नौडियाल ने कहा कि कूडा निस्तारण के लिए उनके वार्ड नं0 31 में कंटेनर रखे गये थे, जहां पर लोग अपने घरों का कूड़ा इकठ्ठा कर डालते थे, लेकिन बगैर उनके संज्ञान में लिये ही नगर निगम के कर्मचारियों के द्वारा उक्त कंटेनरों को हटा दिया है, जिससे अब लोगों को अपने घरों का कूड़ा डालने में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। नगर निगम के पार्षद सौरभ नौडियाल ने महापौर भी आरोप लगाते हुए कहा कि महापौर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के कहने पर ही निर्णय ले रही है, जबकि पार्षदों से कोई राय नहीं ली जा रही है।

शिकायत के आधार पर दूसरी जगह शिफ्ट किया कूड़ा कंटेनर- महापौर

कोटद्वार। नगर निगम की महापौर श्रीमती हेमलता नेगी ने नगर निगम के वार्ड नं़ 31 के पार्षद सौरभ नौडियाल के द्वारा नगर निगम में कूड़ा फेंके जाने की घटना की भत्र्सना करते हुए कहा कि पार्षद के द्वारा राजनीति से प्रेरित होकर सुर्खियों में आने के लिए जानबूझकर इस प्रकार का ड्रामा किया जा रहा है, जबकि उक्त वार्ड में रखे कंटेनरों को जनशिकायत के आधार पर दूसरी जगह शिप्ट किया गया है, कहा कि जहां पर पहले कूड़ा इकठ्ठा करने के लिए कंटेनर रखा हुआ था, वहां एक बुजुर्ग व्यक्ति रहते है, जोकि अवस्थ चल रहे है, जिससे कूड़ा कंटेनर को शिप्ट किया गया है। महापौर ने कहा कि वर्तमान में नगर निगम में कर्मचारियों की कमी के बावजूद भी समस्त वार्डो में निर्धारित संख्या में सफाई कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी गयी है, तथा प्रत्येक वार्ड में कूडे का वाहन जाकर कूड़ा इकठ्ठा करता है, उन्होंने कहा कि पार्षद के द्वारा नगर निगम में कूड़ा डालकर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का प्रयास किया जा रहा है। महापौर ने कहा कि नगर निगम के समस्त वार्डो की सफाई व्यवस्था करना नगर निगम की जिम्मेदारी है, जिसमें किसी भी तरह का भेदभाव का आरोप लगाना गलत एवं तथ्यहीन है, कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में न तो नगर निगम में पर्याप्त मात्रा मेंं सफाई कर्मियों की नियुक्ति हो रही है, और न ही अधिकारियों को नियुक्त किया जा रहा है, जिससे नगर निगम के संचालन में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं दूसरी ओर नगर आयुक्त किशन सिंह नेगी ने कहा कि पार्षद को जनशिकातों को उनके सम्मुख लाना चाहिए था, कहा कि जनसमस्याओं का निस्तारण करना नगर निगम का प्रथम दायित्व है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Read also x