टैक्स वसूली के खिलाफ पूर्व काबीना मंत्री व महापौर का अभियान जारी

कोटद्वार। प्रदेश सरकार के द्वारा नगर निगम के वासियों पर व्यावसायिक, एवं खाली पड़े भूखंडों पर टैक्स लगाये जाने के विरोध में तीसरे दिन गुरूवार को पूर्व काबीना मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी एवं महापौर सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने निंबूचौड़ से तडियाल चौक तक रैली निकालकर जनजागरूकता अभियान चलाते हुए लोगों को टैक्स वसूली के फरमान के विरोध में आगामी 15 नवम्बर 2020 तक नगर निगम कार्यालय में आपत्ति दर्ज करने की अपील की है।
भाबर क्षेत्र के अंतर्गत निंबूचौड़ में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व काबीना मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी एवं महापौर श्रीमती हेमलता नेगी ने कहा कि प्रदेश सरकार के द्वारा नगर निगम में सम्मिलित ग्रामीण क्षेत्रों में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों एवं खाली पड़े हुए भूखंडों पर अनाश्यक रूप से टैक्स लगाये जाने का फरमान जारी कर दिया जाना लोगों के साथ अन्याय है, कहा है कि प्रदेश सरकार ने कैबिनेट की बैठक में सिर्फ हाउस टैक्स माफ करने की बात कर लोगों को भ्रम में डालने का काम किया है, जबकि व्यावसायिक प्रतिष्ठानों एवं खाली भूखंडों पर टैक्स के बारे में कोई चर्चा तक नहीं की गयी है, उन्होंने लोगों से प्रदेश सरकार के भ्रमजाल में न फंसने तथा हर हाल में व्यक्तिगत आपत्ति आगामी 15 नवम्बर 2020 तक नगर निगम कार्यालय में दर्ज करने की अपील की है, कहा कि यदि क्षेत्र के लोगों के द्वारा आपत्ति दर्ज नहीं की गयी तो प्रदेश सरकार के द्वारा जारी आदेश कानून का रूप अख्तियार कर लेगा, उसके बाद उक्त कानून को निरस्त करवाना संभव नहीं है। कानून बन जाने के बाद लोगों के व्वायसायिक प्रतिष्ठानों एवं खाली भूखंडों पर अनावश्यक कर लगने शुरू हो जायेगें। इस मौके पर महापौर श्रीमती हेमलता नेगी, दर्जाधारी राज्य मंत्री सुनीता बिष्ट, विजय नारायण सिंह, महानगर अध्यक्ष संजय मित्तल, कृष्णा बहुगुणा, मीना बटुवाण, विनीता भारती, भारत सिंह नेगी, वीरेन्द्र सिंह रावत, विनोद रावत, सुरेश नेगी, विनोद रावत, सतेन्द्र सिंह नेगी, हिम्मत सिंह नेगी, प्रदीप रावत, संतन सिंह, हेमंत रावत, पूर्व प्रमुख सुरेश असवाल, विनोद नेगी, धीरेन्द्र सिंह बिष्ट, रमेश चंद्र खंतवाल, जितेन्द्र भाटिया, राजेन्द्र गुंसाई, पार्षद अमित नेगी, सूरज प्रसाद कांति, हेमचंद्र पंवार, बृजपाल सिंह सहित कई कार्यकर्ता मौजूद थे।
फोटो सलग्न है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी