उत्तर प्रदेश : अर्थी पर बैठकर वोट मांग रहे, कौन हैं ये महानुभव, जानने के लिए पढ़ें पूरी ख़बर

गोरखपुर : चुनाव प्रचार करना हो, आंदोलन करना हो, सब अर्थी ही करते हैं। इसीलिए इनकी पार्टी का चुनाव निशान भी हांडी है। अपने राजनीतिक जीवन में ये अर्थी बाबा अब तक 11 बार चुनाव लड़ चुके हैं। जब नामांकन के लिए कलेक्टर दफ्तर पहुंचे थे तो वह अर्थी पर बैठे थे। पार्टी के समर्थक कंधा दे रहे थे। साथ ही, ‘राम नाम सत्य है’ का नारा भी लगाया जा रहा था।

ग़ौरतलब है कि, आगमी 03 नंवबर को उत्तर प्रदेश में सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। सभी सियासी दल इन चुनावों को लेकर अपने प्रचार में जुटे हैं। इन सबके बीच ‘अर्थी बाबा’ भी अपने प्रचार-प्रसार में जुटे हैं। उनके प्रचार का तरीका अन्य दलों के नेताओं से थोड़ा अलग है। जी हाँ, ये और कोई नहीं बल्कि गोरखपुर के राजन यादव है जिन्हें राजनीतिक दुनिया में अर्थी बाबा’ के नाम से जाना जाता है। राजन यादव उपचुनाव में देवरिया सदर सीट से ताल थोक रहे हैं। वो अपना हर काम अर्थी पर बैठकर करते हैं। उनके इस अंदाज को देखकर लोग अचंभित हो जाते हैं।

आपको बता दें, राजन यादव उर्फ़ अर्थी बाबा’अपना नामांकन पत्र भरने भी अर्थी पर ही सवार होकर पहुंचे। वो ऐसा हमेशा से ही करते रहे हैं। इतना ही नहीं, सोशल मीडिया पर उनका अर्थी पर बैठकर वोट मांगने का वीडियो भी वायरल हुआ। साल 2008 में एमबीए कर चुके हैं। बैंकाक में एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी थी लेकिन छोड़ दी। अब वो खुद को सामाजिक कार्यकर्ता कहते हैं। अर्थी बाबा गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी