सीएम योगी का बड़ा ऐलान : कोरोना से पत्रकार का निधन होने पर परिजनों को मिलेगी दस लाख की मदद

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में मान्यता प्राप्त पत्रकारों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा देगी योगी सरकार। इसके साथ ही यूपी में अगर किसी मान्यता प्राप्त पत्रकार की कोरोना से मौत हो जाती है तो उसके परिजनों को 10 लाख की आर्थिक मदद देगी सरकार‌। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूचना एवं जनसंपर्क की अति आधुनिक सुविधा से लैस पंडित दीनदयाल उपाध्याय सूचना परिसर का उद्घाटन किया। अब सूचना निदेशालय के सभी कार्य इसी नई बिल्डिंग से होंगे।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, डा. दिनेश शर्मा के अलावा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, जलशक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह, मुख्यसचिव आर के तिवारी, सूचना निदेशक शिशिर समेत अन्य लोग उपस्थित रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी ने सूचना विभाग की एक पुस्तक का भी विमोचन किया गया।

सभी पत्रकारों को शामिल किया जाए- एलजेए:
मुख्यमंत्री द्वारा इस अवसर पत्रकारों के लिए बीमा एवं आर्थिक सहायता देने की घोषणा किए जाने का पत्रकारों संगठनों ने स्वागत किया है। लखनऊ जर्नलिस्ट एसोसिएशन (LJA) के अध्यक्ष आलोक कुमार त्रिपाठी, उपाध्याय मो. इनाम खान एवं महामंत्री विजय आनंद वर्मा ने मुख्यमंत्री द्वारा पत्रकारों के लिए आज की गई इन दो घोषणाओं का स्वागत करते हुए इस राशि को बढ़ाए जाने की मांग की है। साथ ही एलजेए की ओर से कहा गया है कि इसमें मान्यता प्राप्त पत्रकारों के अलावा डेस्क पर कार्यरत पत्रकारों एवं गैर मान्यता प्राप्त श्रमजीवी पत्रकारों को भी इस योजना में शामिल किया जाता तो और अच्छा होता। यहां बताते चलें कि लखनऊ जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने अपने सदस्य पत्रकार साथियों का दस लाख का दुर्घटना बीमा स्वयं के स्तर से पहले से ही करवा रखा है।

सहायता राशि में बढ़ोत्तरी हो- आईएफडब्ल्यूजे:
इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट ( IFWJ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ. के विक्रम राव एवं वरिष्ठ पत्रकार रामेश्वर पांडेय एवं एलडब्ल्यूजेए के मंडल अध्यक्ष शिवशरण सिंह ने पत्रकार साथियों को पाँच लाख रुपए की धनराशि का बीमा व आकस्मिक निधन एवं पर कोरोना से मृत्यु होने पर दस लाख रुपए उनके परिजनों को दस लाख रुपए दिए जाने पर मुख्यमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित किया। साथ ही उन्होने सरकार से पत्रकार सुरक्षा कानून, वरिष्ठ पत्रकारों को पेंशन व पत्रकारों के परिजनों को चिकित्स सुविधा भी प्रदान किए जाने की मांग की है।

पत्रकारों को पेंशन भी मिले- मान्यता समिति
उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति ने भी पत्रकारों के लिए आकस्मिक मृत्यु की स्थिति में दी जाने वाली 10 लाख रुपये की सहायता राशि व स्वास्थ्य बीमा के लिए पांच लाख रुपये के एलान के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताते हुए इस राशि को बढ़ाने की मांग की है। समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी, उपाध्यक्ष अजय श्रीवास्तव एवं कोषाध्यक्ष जफर इरशाद ने कहा कि प्रदेश के पत्रकारों के लिए सबसे ज्यादा जरुरी पेंशन है जिसके संदर्भ में जल्द से जल्द एलान किया जाना चाहिए। देश के अधिकांश राज्य पत्रकारों को पेंशन दे रहे हैं जबकि उत्तर प्रदेश में इस संदर्भ में अब तक कोई फैसला नहीं लिया गया है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी