हाथरस कांड : छिप-छिपाकर मिडिया के पास पहुँचे लड़के ने हटाया प्रशासन के चेहरे से नकाब

हाथरस में हुए दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म और फिर उसकी मौत के मामले में पुलिस और प्रशासन की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। पुलिस और प्रशासन की कार्यप्रणाली पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। वहीं, पीड़िता के गांव को पुलिस ने पूरी तरह से घेराबंदी की हुई है। किसी को भी गांव से बाहर जाने और बाहर से किसी को गांव में आने प्रतिबंधित कर दिया गया है।

वहीं, पुलिस वालों के नज़रों से छुप छुपाते गांव से खेतों के रास्ते एक लड़का गांव के बाहर मौजूद मीडिया के पास आया। जानकारी के मुताबिक, मिडिया के पास आये लड़के ने पुलिस-प्रशासन पर फिर से गंभीर आरोप लगते हुए उन्हें एक बार फ़ी सवालों के कटघरे में ला दिया है।

लड़के ने मिडिया से कहा है कि पीड़िता के घरवाले मीडिया से बात करना चाहते हैं लेकिन पुलिस ने उन्हें घर में कैद कर दिया गया है। सबके मोबाइल छीन लिए गए हैं और उनके इस रवैये का विरोध करने पर डीएम ने उसके ताऊ की छाती पर लात मारी है। जिसे उसका ताऊ जमीन पर गिरकर बेहोश हो गया है।

 

लड़के ने आगे बताया कि, उसे ऐसा करने के लिए उसके घरवालों ने कहा है। घरवालों उसे कहा कि मीडिया वालों को बुला लाओ। घरवाले कुछ बात करना चाहते हैं, लेकिन उन्हें निकलने नहीं दिया जा रहा है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी