हाथरस दुष्कर्म मामला : पीड़िता का भाई बोला,’आखिर अंतिम संस्कार की इतनी जल्दी क्या है? हमारे पिता भी घर नहीं पहुंचे हैं.’

उत्तर प्रदेश के हाथरस में गांव के ही चार युवकों की दरिंदगी का शिकार हुई 19 वर्षीय युवती की बीते मंगलवार दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में दर्दनाक मौत हो गई। वहीं, युवती का शव मंगलवार की देर रात दिल्ली से हाथरस लाया गया जहाँ परिजनों की भावनाओं और इच्छाओं को दरकिनार कर यूपी पुलिस ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, आधी रात के करीब, उसका शव एक एंबुलेंस में हाथरस के उसके गांव पहुंचा, जहाँ यूपी पुलिस द्वारा शव का बुधवार तड़के 3 बजे के बाद श्मशान घाट में अंतिम संस्कार कर दिया गया। वहीं, मृतक युवती के परिजनों का आरोप कि पुलिस ने उनसे पूछे बिना जबरन अंतिम संस्कार कर दिया।

परिजनों का कहना है कि, वे रात को आखिरी बार उसके शरीर को घर लाना चाहते थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, लड़की के भाई ने बुधवार सुबह 3.30 बजे बताया कि ‘ऐसा लगता है कि मेरी बहन का अंतिम संस्कार कर दिया गया है. पुलिस हमें कुछ भी बताने से परहेज़ कर रही है. हमने उनसे विनती की कि युवती के शव को अंतिम बार घर लाएं, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं मानी.’ वहीं, चश्मदीदों का कहना है कि, मृतिका के घरवालों को पुलिस ने जबरन कमरे में बंद कर दिया था और घर के बाहर पुलिस बल तैनात था।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी