क्या दक्षिण में खिल पायेगा कमल…… पढ़ें पूरी खबर….

नई दिल्ली। भारतीय जनाता पार्टी ने दक्षिण के राज्यों में अपनी पकड़ बनाने के लिए इस बार ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में अपने सारे घोड़े मैदान में उतार दिये थे और शुरूआती रूझानों से यही लगता है कि इस बार वहां कमल खिलता नजर आ रहा है।
दक्षिणी राज्यों में पैठ बनाने की बीजेपी के प्लान में यह चुनाव टर्निंग प्वाइंट साबित हो सकते हैं। 150 सीटों वाले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के शुरूआती चुनावी रुझानों में बीजेपी 80 से ज्यादा सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। अगर शुरूआती रूझान ही नतीजों में तब्दील हो गये तो निजामों के इस शहर में पहली बार कमल खिल सकता है। यहां चुनाव प्रचार के लिए केंद्र ने अपने सारे घोड़े मैदान में उतार दिये थे। पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह के नेतृत्व पार्टी ने खूब प्रचार-प्रसार किया है। शुरूआती रुझान देख बीजेपी जोश में है। अभी तक निजामों के इस शहर पर ओवैसी का दबदबा माना जाता है। लेकिन इस बार ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) की तस्वीर बदली-बदली सी नजर आ रही है और बीजेपी निजामों के इसे किले को भेदती नजर आ रही है। यहां की 150 सीटों वाले निगम की 90 सीटों पर बीजेपी आगे है। सत्तारूढ़ टीआरएस 34 सीटों के साथ दूसरे नम्बर पर है तथा आवैसी तीसरे नम्बर पर चल रहे हैं। वर्ष 2016 चुनाव में बीजेपी गठबंधन में यहां 5 सीटें मिली थीं। इससे पहले चुनाव प्रचार के दौरान सभी दलों ने एड़ी चोटी का जोर लगाया था लेकिन बीजेपी ने पहली बार किसी नगर निगम चुनाव में किसी बड़े चुनाव की तरह सारी ताकत लगा दी। ओवैसी के गढ़ में पैर जमाने के लिए शाह, नड्डा और योगी समेत सभी बडे़ नेताओं ने खूब प्रचार किया।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी