रिजर्व बैंक के फैसले से शेयर बाजार में उछाल…….जानिये क्या कहा आबीआई गवर्नर ने….

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास मौद्रिक नीति स्टेटमेंट की घोषणा कर चुके हैं। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वित्तीय बाजार सुचारू तरीके से काम कर रहे हैं।
आरबीआई गवर्नर ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही से आर्थिक रिकवरी के लक्षण नजर आने लगे हैं तथा पर्याप्त तरलता सुनिश्चित करने के लिए तथा वैश्विक अनिश्चितता से निपटने के लिए आरबीआई आने वाले समय में और कदम उठाने के लिए तैयार है। फैसले से उत्साहित सेंसेक्स में जमकर लिवाली देखी गई और यह पहली बार 45 हजार के पार पहुंच गया। सुबह सेंसेक्स 367 अंकों की बढ़त के साथ 45000 और निफ्टी 108 अंकों की तेजी के साथ 13,242 अंक पर कारोबार कर रहे थे। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि महंगाई दर के ऊंची बनी रहने की संभावना है। व्यापक रिकवरी में अभी समय लगेगा। हालांकि, प्रोएक्टिव सप्लाई मैनेजमेंट के लिए थोड़ी गुंजाइश बची हुई है। भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष में वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर में 7.5 फीसद के संकुचन का अनुमान जताया है। केंद्रीय बैंक ने इससे पहले अर्थव्यवस्था में 9.5 फीसद के संकुचन का अनुमान जताया था। आबीआई तीसरी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर के 0.1 फीसद और चौथी तिमाही में 0.7 फीसद पर रहने का अनुमान जाहिर किया है। आरबीआई का मानना है कि चालू वित्त वर्ष में देश की अर्थव्यवस्था में 7.5 फीसद का संकुचन देखने को मिल सकता है। उन्होंने कहा, मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (एमएसएफ) दर और बैंक दर 4.25 फीसद पर यथावत हैं। वहीं, रिवर्स रेपो रेट 3.35 फीसद पर बना हुआ है। एमपीसी ने मुद्रास्फीति को तय लक्ष्य के भीतर रखने के साथ टिकाऊ वृद्धि को रिवाइव करने और कोविड-19 के असर को कम करने के लिए मौद्रिक नीति को जरूरत के हिसाब से ‘उदार’ रखने का फैसला किया है। यह चालू वित्त वर्ष में और अगले वर्ष तक जारी रह सकता है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी