सिंधु बार्डर पर किसानों के विरोध का शिकार हुये सांसद रवनीत बिट्टू

दिल्ली के सिंघू बार्डर पर कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे किसानों ने लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू का जोरदार विरोध किया। जैसे ही बिट्टू सिंघू सीमा पर लोगों की संसद में शामिल होने के लिए पहुंचे, किसानों ने विरोध करना शुरू कर दिया।
विरोध के बाद बिट्टू ने कहा कि वह किसानों के साथ था और हमेशा रहेगा। वह किसानों के समर्थन में जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। उनका कहना है कि उन्हें और कांग्रेस के अन्य नेताओं को बार-बार संसद में बुलाया गया। वे उसमें जाकर समर्थन का संदेश भेजना चाहते थे। उन्होंने कहा कि वह हमेशा किसानों के साथ जुड़े रहेंगे। यह पगड़ी भी उन्हें दी जाती है।
ज्ञात हो कि सांसद रवनीत बिट्टू भी दिल्ली में पिछले दो महीने से अपने साथी कांग्रेस सांसदों और विधायकों के साथ कृषि कानूनों को रद करवाने के लिए धरने पर बैठे हैं।
भीड़ ने उनके खिलाफ नारे लगाते हुये कार पर हमला कर दिया और विंडस्क्रीन तोड़ डाली। इस दौरान उनकी पगड़ी भी उतार दी गई। बड़ी मुश्किल से बिट्टू भीड़ से बाहर निकले। बिट्टू के अलावा सांसद गुरजीत सिंह औजला, विधायक कुलबीर सिंह जीरा और अन्य कांग्रेस नेता भी किसानों के विरोध का कारण बने।
बता दें कि सिंघू सीमा के पास गुरु तेग बहादुर वार मेमोरियल हॉल में, हरियाणा के किसान नेता गुरनाम सिंह चादुनी के निमंत्रण पर कल से जन संसद आयोजित की जा रही है। सांसद रवनीत बिट्टू और अन्य कांग्रेस सांसद इसमें भाग लेने के लिए पहुंचे थे।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी