COVAXIN के आख़िरी ट्रायल को मिली मंजूरी, यहां जानें कब तक आएगी कोरोना वैक्सीन 

अच्छी ख़बर : आगामी माह से देसी कोरोना वैक्‍सीन (Covaxin) के आखिरी दौर का ट्रायल शुरू होने की उम्मीद है। भारत बायोटेक को ड्रग रेगुलेटर से फेज 3 ट्रायल की अनुमति मिल गई है। DCGI का एक्‍सपर्ट कमिटी की मंगलवार को मीटिंग हुई थी। इसी में वैक्‍सीन के आखिरी ट्रायल का अप्रूवल दिया गया। DCGI ने प्रोटोकॉल में ‘थोड़ा संशोधन’ किया है।

भारत में वैक्‍सीन के ट्रायल में 25 हजार से ज्यादा लोगों के शामिल होने की संभावना है। उन्‍हें 28 दिन के अंतराल पर वैक्‍सीन की दो डोज दी जाएंगी। शुरुआती ट्रायल में वैक्‍सीन के नतीजों ने उम्‍मीद जगाई है। Covaxin पहली स्‍वदेशी कोरोना वायरस वैक्‍सीन है। इसे इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ मिलकर बनाया गया है।

ग़ौरतलब है कि, देश और दुनिया में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच सभी को इसकी एक कारगर और सुरक्षित वैक्सीन का इंतजार है। अबतक रूस और चीन ने कोरोना के जिन टीकों को मंजूरी दी है, उनका तीसरे चरण का ट्रायल पूरा नहीं हुआ है। भारत में तीन वैक्सीन कैंडिडेट्स कामयाबी के करीब हैं, जो अंतिम चरणों के ट्रायल से गुजर रही हैं। यहां की देसी कोरोना वैक्सीन Covaxin से लोगों को बड़ी उम्मीद है, जिसे अंतिम यानी तीसरे चरण के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। इसे भारत बायोटेक कंपनी ने आईसीएमआर यानी भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद की मदद से तैयार किया है। 25 हजार से ज्यादा लोगों पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया जाएगा।

कमिटी की एक मीटिंग 5 अक्‍टूबर को हुई थी। उसमें कंपनी से फेज-3 ट्रायल के प्रोटोकाल को दोबारा सबमिट करने के लिए कहा गया था। कमिटी का मानना था कि फेज-3 स्‍टडी का डिजाइन तो संतोषजनक था। लेकिन उसकी शुरुआत फेज-2 के सेफ्टी और इम्‍युनोजेनिसिटी डेटा में से सही डोज तय करने के बाद होनी चाहिए। कमिटी ने फर्म से पहले उस डेटा की मांग की थी।भारत बायोटेक का प्‍लान है कि Covaxin का आखिरी ट्रायल दिल्‍ली के अलावा उत्‍तर प्रदेश, बिहार, महाराष्‍ट्र, पंजाब और असम में किया जाए। कंपनी फरवरी तक फाइनल ट्रायल के रिजल्‍ट्स आने की उम्‍मीद कर रही है। उसके बाद अप्रूवल और मार्केटिंग की परमिशन के लिए अप्‍लाई किया जाएगा।

भारत बायोटेक ने अपनी कोविड वैक्‍सीन में Alhydroxiquim-II नाम का अजुवंट जोड़ा है। यह वैक्‍सीन के इम्‍युन रेस्‍पांस को बेहतर करेगा और उससे लंबे वक्‍त तक कोरोना से सुरक्षा मिलेगी। अजुवंट एक ऐसा एजेंट होता है जिसे मिलाने पर वैक्‍सीन की क्षमता बढ़ जाती है। इससे टीका लगने के बाद शरीर में ज्‍यादा ऐंटीबॉडीज बनती हैं और लंबे वक्‍त तक इम्‍युनिटी मिलती है।

Covaxin के अलावा देश में दो और कोरोना टीकों का ट्रायल सफलता के क़रीब हैं। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने ऑक्‍सफर्ड-अस्‍त्राजेनेका की वैक्‍सीन में पार्टनरशिप की है। कंपनी देश में उनके टीके ‘कोविशील्‍ड’ का ट्रायल कर रही है। इसके अलावा, जायडस कैडिला ने ZyCov-D नाम से वैक्‍सीन बनाई है। कई अन्‍य कंपनियां भी शोध कर रही हैं।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी