बस खाने के वक्त का ध्यान रखकर यूं घटाएं वजन

हर साल इतने सारे डायट ट्रेंड्स चलते हैं कि यह पता करना मुश्किल हो जाता है कि आपके लिए कौन सा बेस्ट है। 2018 में एक ऐसी डायट आ गई है जो आपको यह नहीं बताएगी कि आपको क्या खाना है बल्कि यह बताएगी कि आपको कब खाना है। इसे कहते हैं टाइम रिस्ट्रिक्टेड फीडिंग, यह नया तरीका है जिससे वजन को नियंत्रण में रखा जा सकता है। जानिए इसके बारे में और भी डिटेल्स…
क्या है टाइम रिस्ट्रिक्टेड फीडिंग
टीआरएफ में डायट एक्सपर्ट्स यह बताते हैं कि इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप क्या खाते हैं, जब तक कि यह खाना आपके स्पेसिफिक टाइम विंडो के अंतर्गत खाया जा रहा हो। अगर आपका विंडो ईटिंग 16 घंटे (ब्रेकफस्ट, लंच, डिनर, चाय, कॉफी और स्नैक्स को मिलाकर) का है तो इसे 12 या 8 घंटे का कर लें। बाकी समय अपने शरीर को क्लींजिंग के लिए दें।
क्या है विंडो?
जिस वक्त से आप खाने के पहला निवाला अपने मुंह में रखते हैं उसे विंडो कहा जाता है। इसमें पानी शामिल नहीं है। और ये खत्म तब होता है जब आप आखिरी निवाला खाते हैं।
मैं इसे कैसे इस्तेमाल कर सकता हूं?
विंडो को छोटा रखने का यह मतलब नहीं कि बचे समय में आप जितना ज्यादा हो सके उतना खाते जाएं। इसका मतलब यह है कि अपनी डायट को इस विंडो के अंदर ही प्लान करें ताकि गैरजरूरी स्नैक्स से बचा जा सके। इसलिए अगर आप 10 घंटे का विंडो तय करते हैं तो ब्रेकफस्ट शुरू करने का सही समय सुबह 9 बजे और डिनर शाम को 7 बजे कर लें। जिसमें दो मील शामिल होंगे। लंच 1 बजे और 4 बजे स्नैक्स। इस बीच कुछ खाने से बचें और आपको विंडो से पहले और बाद में भी नहीं कना है। इस दौरान सिर्फ पानी पी सकते हैं।
क्या हैं फायदे?
जर्नल सेल मेटाबॉलिजम में छपे एक शोध के मुताबिक जो लोग इस डायट को फॉलो करते हैं, वे कम कैलरी लेते हैं और वजन कम होता है। इससे उनका खाना जल्दी मेटाबोलाइज्ड भी होता है। वजन कम होने के अलावा इसका फायदा यह भी है कि इससे नींद अच्छी आती है, एनर्जी लेवल अच्छा रहता है, ब्लड प्रेशर और ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित रहती है। इसके अलावा सेल रिपेयर होती हैं जिससे कैंसर से बचाव होता है।
क्या हैं कमियां
अगर आपका हॉरमोनल बैलेंस ठीक नहीं तो आपका शरीर दिमाग को अलग-अलग तरह के हंगर सिगनल्स भेज सकता है। इससे ऐसा भी हो सकता है कि आपको हर वक्त भूख का अहसास होता रहे। बेहतर होगा कि आप विंडो को एकदम से न घटाकर धीरे-धीरे घटाएं।
वहीं जो लोग शिफ्ट्स में काम करते हैं उन्हें भी यह डायट फॉलो करने से पहले सारी चीजों का ध्यान रखना होगा।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी