हरी झण्डी मिलते ही देश में कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण…पढ़ें पूरी खबर

नई दिल्ली। कोविड-19 महामारी के लिए ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार वैक्सीन कोविशील्ड तथा दूसरी देश में निर्मित भारत बायोटेक व इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा तैयार कोवैक्सिन को डीसीजीआई द्वारा आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद देश के विभिन्न विभागों ने इसके टीकाकरण को लेकर युद्धस्तर पर तैयारी भी कर ली है।
ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने देश में दो कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी उपयोग को मंजूरी दे दी है। इसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और स्वदेशी भारत बायोटेक की कोवैक्सिन शामिल है। महामारी के लिए वैक्सीन का इंतजार अब खत्म हो गया है और इसके टीकाकरण की देश में युद्ध स्तर पर सरकार तैयारी में जुट गयी है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इसके आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिलने पर देश को बधाई दी है। मंजूरी मिलने के बाद सरकार ने बड़े पैमाने पर कोरोना वायरस वैक्सीनेशन की तैयारी शुरू कर दी है। इसमें लगभग 20 मंत्रालयों के 23 विभाग को लगाया जा रहा है। इसमें शहरी विकास मंत्रालय, वित्त विभाग, लोक निर्माण विभाग और हेल्थ इंजीनियरिंग को इसकी जिम्मेवारी सौंपी गयी है। इन विभाग को निर्देश दिये गये हैं कि वे उन स्थानों का चयन करें जहां इसके टीकाकरण किया जा सके। देश में वैसे तो 80-85 लाख केन्द्र बनाने की क्षमता है मगर कोरोना महामारी संक्रमण को देखते हुए इसके लिए शारीरिक दूरियों का विशेष ध्यान रखा जायेगा। इसलिए इसके टीकाकरण केन्द्रों की संख्या घट सकती है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी