ऐतिहासिक क्षण : 56वें वाइल्डलाइफ फ़ोटोग्राफर ऑफ द ईयर का खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं, ऐश्वर्या श्रीधर

आज के इस युग में बेटियां भी बेटों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं हैं। जहाँ पहले बेटों को ही तवज़्ज़ो दी जाती थी, वहीं, अब बेटियों ने भी कड़ी मेहनत, लगन और दृढ़ संकल्प के दम पर खुद के पांव पर खड़ी होने के साथ ही परिवार और देश का पुरे विश्वभर में नाम रोशन करती आ रही हैं। इस बीच पच्छिम बंगाल की ऐश्वर्या श्रीधर ने फोटोग्राफी के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए  साल 2020 में  56वें वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर पुरस्कार अपने नाम किया है, जिसके साथ ही यह इस पुरस्कार को जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन चुकीं हैं।

लंदन के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम द्वारा बीते 13 अक्टूबर को 56वें वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर पुरस्कार की घोषणा की गई। आपको बता दें, वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर पुरस्कार वन्यजीव फोटोग्राफी का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है और इसे जीत कर ऐश्वर्या श्रीधर ने इस उपलब्धि को हासिल करके खुद को ही नहीं अपितु भारत का नाम भी वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी के क्षेत्र में सुनहरे अक्षरों में दर्ज़ कर दिया है।

वर्ष 2020 पुरस्कार पाने को लेकर 80 से अधिक देशों से 50,000 से अधिक तस्वीरें भेजी गई थीं और इनमें से केवल 100 को पुरस्कृत किया गया। जिसमें भारत को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।

ग़ौरतलब है कि, वर्ष 2020 भारतीय वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी के लिए बेहतरीन रहा है। और वो इसलिए कि, भारत की एश्वर्या श्रीधर ने वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर की वयस्क प्रतियागिता की श्रेणी में पुरस्कार जीता है। वह इस श्रेणी में पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय महिला और  ख़ास बात ये भी है कि फोटोग्राफ़ी के क्षेत्र में अपना लोहा मनवाने वाली भारत की एश्वर्या श्रीधर सबसे कम उम्र की महिला हैं।

वहीं, कंज्यूमर सिस्टम प्रोडक्ट्स एंड इमेजिंग कम्युनिकेशन प्रोडक्ट्स के निदेशक सी सुकुमारन ने एश्वर्या श्रीधर को बधाई देते हुये कहा, “हम यह खबर सुनकर बहुत खुश हैं कि एश्वर्या ने 56वें वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता है और वह इस पुरस्कार को पाने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं। हम इस पुरस्कार के लिए उन्हें बधाई देना चाहते हैं और उम्मीद करते हैं कि वह भविष्य में इस तरह के कई पुरस्कार जीतेंगीं।”


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी