व्रती महिलाओं को इस समय होंगे चांद के दिदार, इन बातों का रखना होगा खास ध्यान………

नई दिल्ली, आज देशभर में कोरोना काल के बीच करवा चौथ का पर्व मनाया जा रहा है। करवा चौथ के दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। सुहागिनों के लिए ये व्रत काफी महत्वपूर्ण है।
शादीशुदा महिलाएं इस दिन व्रत की कथा ज़रूर सुनती हैं, जिसके बिना व्रत को अधूरा माना जाता है। मान्यता चली आ रही है कि जितना महत्व करवा चौथ के व्रत का होता है उतना ही महत्व कथा का भी होता है। इसलिए व्रत कर रही महिलाओं को इस बात का जरूर ध्यान रखना चाहिए कि व्रत की कथा जरूर सुने।

दिल्ली में रात 8:12 बजे, कोलकाता में रात 7:40 बजे, मुंबई में रात 8:52 बजे, चेन्नई में रात 8:33 बजे, शिमला में रात 8:06 बजे, चंड़ीगढ़ में रात 8:09 बजे, अमृतसर में रात 08:15 बजे, पटना में रात 07:47 बजे, देहरादून में रात 08:05 बजे, श्रीनगर में रात 08:08 बजे, अहमदाबाद में रात 08:45 बजे, प्रयाग में रात 08:02 बजे चांद देखने को मिलेगा।
करवा चौथ के दिन ऐसा कोई काम न करें, जिससे घर का माहौल खराब हो। घर में शांति और सौहार्द का वातावरण बनाए रखें। पारिवारिक कलह और द्वेष से बचें। इस दिन पति और पत्नी को आपसी मनमुटाव से बचना चाहिए। माना जाता है कि अगर पति-पत्नी करवा चौथ के दिन झगड़ते हैं तो पूरे साल ऐसी परिस्थितियां बनती रहती हैं, जिनसे आपस में मनमुटाव होता रहता है।
देवों और दानवों के बीच युद्ध में देवताओं की हार हो रही थी। सभी देवताओँ ने तब ब्रह्मदेव से प्रार्थना की। ब्रह्मदेव ने सभी देवताओं की पत्नियों को सुहाग के लिए व्रत करने को कहा। ऐसा करने से उनके पतियों की युद्ध में विजय हुई, तब से कार्तिक माह की चतुर्थी के दिन करवाचौथ मनाया जाता है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी