बर्फ से ढका मॉ वैष्णव देवी का दरवार….. बैटरी कार, हेलीकॉप्टर, केबल कार सेवाएँ बंद

हाल के दिनों में माता वैष्णो देवी सहित कटरा में भी काफी अच्छी बारिश व बर्फवारी दर्ज की गई है। इस समय मां वैष्णो देवी का दरबार बर्फ की सफेद चादर में लिपटा हुआ है। पश्चिमी विक्षोभ के कारण आसपास की पहाड़ियों पर भी भारी हिमपात देखने को मिला है। आने वाले दिनों में पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ जाएगा, जिससे माता वैष्णो देवी के आसपास मौसम साफ हो जाएगा।
लेकिन 24 जनवरी की रात तक एक नया पश्चिमी विक्षोभ दस्तक देगा जिससे फिर से बारिश होने का अनुमान है। हालांकि आगामी सिस्टम कमजोर होगा जिससे उस समय बर्फबारी की संभावना काफी कम है।
कभी बारिश और बर्फबारी तथा कभी हिमपात का यह मौसम वैष्णो देवी में आगे भी जारी रहने की संभावना है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार 28 और 29 जनवरी को एक बार फिर भारी वर्षा के साथ हिमपात होने की संभावना है, जबकि 30 तारीख तक मौसम साफ हो जाएगा। इसलिए अगर इस महीने दर्शन के लिए जम्मू कश्मीर जाने की तैयारी में हैं तो इन तारीखों को ध्यान में रखे।
माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने खराब मौसम के चलते श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मद्देनजर बैटरी कार सेवा, हेलीकोप्टर सेवा और भवन से भैरव घाटी के बीच चलने वाली पैसेंजर केबल कार सेवाओं को फिलहाल बंद कर दिया है।
वैष्णो देवी में जनवरी महीने में रुक-रुक कर बारिश और भवन पर हिमपात की गतिविधियां होती रही हैं। इस समय भी एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पास बना है। इसके प्रभाव से वैष्णो देवी भवन पर अगले 24 घंटों के दौरान हिमपात होने की संभावना है।
जनवरी महीने के अंत में यानि 28 और 30 जनवरी के बीच वैष्णो देवी और आसपास के इलाकों में तेज बारिश के संकेत मिल रहे हैं। उस दौरान पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी भी हो सकती है तथा कटरा समेत वैष्णो देवी भवन पर ओले गिरने की भी संभावना है।
वैष्णो देवी मंदिर की पुरानी और प्राकृतिक गुफा श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दी गई है। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार पुरानी गुफा केवल जनवरी और फरवरी के दौरान खोली जाती है जब भीड़ बहुत कम होती है। शेष महीनों में तीर्थयात्रियों को गर्भगृह तक पहुंचने के लिए नई गुफाओं से होकर गुजरना पड़ता है। आमतौर पर हर साल मकर संक्रांति के बाद तीर्थयात्रियों के लिए यह प्राकृतिक गुफा खोली जाती है।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी