26/11 आतंकी हमला: जानिये क्या हुआ था उस दिन ……..

वर्ष 2008 में आज ही के दिन यानि 26 नवम्बर को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई आतंकी हमले से पूरी तरह से दहल उठी थी। इस आतंकी हमले ने पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था। लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकियों के सिर्फ 10 आतंकियों ने पूरी मुबंई को आतंक के गढ़ के रूप में तब्दील कर दिया था। जिस कारण करीब साठ घंटे तक मुंबई बंधक बन चुकी थी। इस दौरान लगभग 160 से ज्यादा लोग मारे गये थे तथा 300 से ज्यादा लोग घायल हो गये थे। आज इस आतंकी हमले को आज 12 साल हो गए हैं मगर यह भारत के इतिहास का वो काला दिन है जिसे कोई भूल नहीं सकता।
हमलों के बाद हुई छानबीन से पता चला कि कराची से 10 हमलावर नाव के रास्ते मुंबई में घुसे थे। इस दौरान नाव पर चार हिन्दुस्तानी भी थे जिनको हमलावार ने किनारे में पहुंचने से पहले ही मार दिया। रात को ये हमलावर कोलाबा के पास कफ़ परेड के मछली बाजार पर उतरे। वहां से वे चार ग्रुपों में बंट गए और टैक्सी लेकर अपनी मंजिलों का रूख किया। रात के तक़रीबन साढ़े नौ बजे मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल पर गोलीबारी की ख़बर मिली। मुंबई के इस ऐतिहासिक रेलवे स्टेशन के मेन हॉल में दो हमलावर घुसे और अंधाधुंध फ़ायरिंग शुरू कर दी। इनमें एक मुहम्मद अजमल क़साब था जिसे अब फांसी दी जा चुकी है। दोनों के हाथ में एके47 राइफलें थीं और पंद्रह मिनट में ही उन्होंने 52 लोगों को मौत के घाट उतार दिया और 109 को ज़ख़्मी कर दिया।
हमलावरों ने छत्रपति शिवाजी टर्मिनल के अलावा दक्षिणी मुंबई का लियोपोल्ड कैफे पर भी हमला किया था। करीब10:40 बजे विले पारले इलाके में एक टैक्सी को बम से उड़ाने की खबर मिली जिसमें ड्राइवर और एक यात्री मारा गया, तो इससे पंद्रह बीस मिनट पहले बोरीबंदर में इसी तरह के धमाके में एक टैक्सी ड्राइवर और दो यात्रियों की जानें जा चुकी थीं। तकरीबन 15 घायल भी हुए। यही नहीं हमलावरों ने मुंबई का ताज होटल, ओबेरॉय ट्राइडेंट होटल और नरीमन हाउस पर भी हमला किया। आपको बता दे कि 26 नवम्बर को शुरू हुए खुनी खेल का अंत 29 नवंबर को हुआ। इस दौरान लगभग 160 लोगों की जान चली गयी थी।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी