उत्तरप्रदेश : BJP विधायकों ने भेजा सीएम और डीजीपी को शिकायती पत्र, पढ़ें पूरी ख़बर

सुधीर शर्मा 

बाराबंकी : एक तरफ प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार को लेकर जीरो टॉलरेंस की बात करते है लेकिन दूसरी तरफ उनके ही विधायक भ्रष्टाचार का आरोप अफसरों पर लगा रहे है अफसरशाही के खिलाफ अपनी ही सरकार में खुलकर विधायक सामने आने लगे है अब सवाल ये है क्या भाजपा की सरकार में सरकारी अफसर मनमानी करने में लगे और सत्ताधारी पार्टी के विधायकों की भी नही चल रही है क्योंकि बाराबंकी जिले से भाजपा विधायकों ने अफसरों के खिलाफ मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कारवायी की मांग कर रहे है ।

 

पूरा मामला है उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे जनपद बाराबंकी के जहा जिले में भाजपा के पांच विधायक है और सांसद भी भारतीय जनता पार्टी का ही है लेकिन अफसरों पर सरकार की कोई भी लगाम काम नही कर रही है क्योंकि बीजेपी के रामनगर विधानसभा से विधायक शरद अवस्थी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है, जिसमे उन्होंने बाराबंकी जनपद की जैदपुर कोतवाली में तैनात दो थाना प्रभारियों और तीन सिपाहियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग की है इससे पहले भी दरियाबाद के विधायक सतीश शर्मा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था जिसमे उन्होंने क्षेत्र में अधिकारियों की साठगांठ से दिनरात खनन करवाने का आरोप लगाया था ।

कही न कही अपनी ही सरकार में अधिकारियों की कार्यशैली भाजपा के विधायक नाराज नजर आ रहे है जिस तरह से मुख्यमंत्री को एक के बाद एक विधायक के द्वारा अफसरों के खिलाफ भ्रस्टाचार करने जैसे गंभीर आरोप लगाए जा रहे है जिससे साफ नजर आ रहा है कि प्रदेश की योगी सरकार अपने अफसरों की कारगुजारियों पर लगाम नही लगा पा रही है जिसके चलते क्षेत्र के विधायकों का दर्द मुख्यमंत्री को लिखे गए पत्रों में झलक रहा है। अपनी ही सरकार में अपने अफसरों से परेशान विधायको का दर्द कही न कही आने वाले 2022 में विधानसभा चुनाव पर पड़ सकता है योगी सरकार द्वारा किये जा रहे भ्रष्टाचार को लेकर जीरो टॉलरेंस के दावे को उनके अपने ही विधायक कही न कही खारिज करते हुए नजर आ रहे है अब इतने में सवाल ये उठता है कि क्या योगी सरकार पर अफसरशाही भारी पड़ रही है ।


शेयर करें

सम्बंधित ख़बरें

टीका - टिप्पणी