तुम मुमताज तो बनो…

हम फिर ताज महल बनवा देंगे, तुम मुमताज तो बनो हम फिर ताज महल बनवा देंगे, तुम मुमताज तो बनो……

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

सैनिक तू अनमोल है जब हम अपनों को कोई मैसेज करते हैं रिप्लाई नहीं आता तो हम कितना डरते हैं…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

क्योंकि भगत सिंह नहीं मरा करते हैं भगत सिंह जो बचपन से ही, सर पेट काट लाहौरी थे, लोहड़ी का…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

क्या क्या बाँटेगा ?? इतना तो मालिक ने ना घमंड किया जिसने संसार बनाया है फिर तुझको इतना घमंड है…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

दारू की महिमा दारू की महिमा कन हुईं च दारू मा दुनिया रूवे गे दारू मा दुनिया रूवे गे फिर…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

“हिन्दी मेरे देश की आशा” सबको है यह बहुत ही प्यारी, सारे जग में है यह न्यारी, बहुत अनोखी है…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

हाँ तुम कश्मीरी घाटी हो गर्जना हो हुंकार हो तुम, डमरू वाले शिव शंकर की, करुणा सिद्ध पुकार हो तुम…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

हिंदी हिंदुस्तान की धड़कन हिंदी हिंदुस्तान की धड़कन , इससे ही अपना गौरव । प्यार करो तुम फैलाओ , पूरे…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अफ़सोस ऐ हिन्दी! अफ़सोस ऐ हिन्दी! मैं तेरे ख़ातिर कुछ नहीं कर पाया अब साल गुज़र गए, था मैं जब…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

चलो आज फिर से साक्षर बनाएं विश्व साक्षरता दिवस पढा लिखा कर साक्षर बनाओ मेरे देश में कोई अनपढ़ रहे…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

शिक्षक दिवस और हमारे गुरुजी आज हम जहाँ खड़े हैं। सब गुरु की ही देन है। हमारे गुरु हमारी शान…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

आज फिर से देवताओं को याद किया है मैंने कुछ तो हुनर सीखा है आपसे मैंने जो दिल से दुनिया…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

“मैं अध्यापक हूँ” मुझको  केवल  एक  गुरू, न  समझा  जाए, विस्तृत  अर्थों   में  ही,  मुझको  देखा  जाए, दीर्घ   रूप  है …

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

अब पापा याद आते हैं बात-बात में  बस,जब मैं पांच साल का बच्चा था, उम्र,अक्ल, शक्ल में जरा कच्चा था,…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

उत्तराखण्ड की राजधानी गैरसैंण बल मैं पहाड़ का रहने वाला तुम मैदान की बाला ठहरी बल मैं सड़कों पर चप्पल…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

मैं विध्वंशक , प्रर्यावरण संरक्षक भी मैं    सुन रे ऐ मानव ! मैं हूं कोरोना महा दानव । आज…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अमर शहीद देव बहादुर एक जवान जो शहीद हुआ, भारत माँ का था मुरीद हुआ, तिरंगा छाती से चिपकाये, उसमें…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अमर शहीद देव बहादुर   एक जवान जो शहीद हुआ,  भारत माँ का था मुरीद हुआ,  तिरंगा छाती से चिपकाये, …

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

आओ पेड़ लगाएं हम चलो मिलके हम,इस धरा को सजाएं, विविध पेड़ पौघे, हम इसमें लगाएं !! धरा नग्न है,…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अमर शहीद देव बहादुर एक जवान जो शहीद हुआ, भारत माँ का था मुरीद हुआ, तिरंगा छाती से चिपकाये, उसमें…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

सुनों बेटियों  जिन गाँव में अस्पताल नहीं उन बेटों से शादी मत करना जहाँ अस्पताल तो हैं पर सुविधा नहीं…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अब करुं त क्या करुं, और जौंउं त कख जौंउ ?  यीं बीमारिन नौकरी छुड़ायि चाकरी छुड़ायि , खाणु पीणु…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

गणेश चतुर्थी है हमारा प्रमुख यह त्यौहार गणपति आते हमारे द्वार । भाद्रपद मास चतुर्थी शुक्ल पक्ष मंगलमूर्ति का है…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

मैं एक वायरस हूं , नाम कोरोना है * जब मानव अहंकार हद को पार कर जाता है, कोई किसी…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

अपना ले संस्कार स्वदेशी चाऊमीन, बर्गर खूब खा लिए, पिज्जा, नूडल्स बहुत पचा लिया, मोमोज, टिक्की, स्प्रिंग-रॉल से, सेहत के…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

भारत माता की जय फिर से तिरंगे के नीचे, सब ,आओ मेरी बात सुनो मैं हूँ भारत, माता सबकी मेरे…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

“मेरी श्यामा गौडी.” बौडी़ जांदा फिर दिन बचपन का, पर कख हूंदा पूरा स्वीणा मन का | गौडी़ मेरी श्यामा…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

मुश्किल बड़ी है बारिश की बूँदो का असर तो देखो सभी के दिलों में अलग हो रहा है देख के…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

रोटी ! रोटी पर कविता ! सोचकर ही पसीना आ जाता है, किर भी मैंने कई बार की है कोशिश…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

                                       …

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

 ग़ज़ल भूले से भी फिर से प्यार नहीं होगा दिल पर उसका अब अधिकार नहीं होगा मेरी अपनी जीने की…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

आजादी का अर्थ समझना स्वतन्त्रता दिवस का पर्व है आया, प्यारा तिरंगा शान से लहराता। शुभ दिन है यह हम…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कोरोना की पटकी गीत तो बहुत सुने होंगे आपने, के बहार कैसी होती है कभी सोचा है क्या, कोरोना की…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कब से मांग रहे थे जिसको, सुखद घड़ी अब आई है.. जाने कैसे देखो आज, भारत माँ मुस्काई है…. देखो…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

“मैं तुम्हें खोजने” मैं तुम्हें खोजने , दिल की डोली लिए । कल्पना के गगन में , विचरता रहा ।…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

पापा फिर लौट आओ ना जो मीठे बतासे खिलाये थे आपने, बाकी आज भी उसकी मिठास है… आपकी यादों का…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

 गर्वित तेरे शहर में आखिर ये कहर क्यों है ? इन फिजाओं में घुला ये जहर क्यों है ? कफ़स…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कृषक कृषक आज हम  भारत के कहाँ  चैन से सोते है ……. ।। अपने ही हमको शोषित करते अपने ही…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

आओ, उनको नमन करें   लिखने को शब्द नहीं फिर भी  आज विजय दिवस पर कलम उठाई है। जय भारत…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

[gview file=”https://www.loksanhita.com/wp-content/uploads/2020/07/bachpan-27-july-2020-1.pdf”]  

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

रिवाज़ झणि कन च तुमरु यखा कु रिवाज दगड्या नि सुणदा तुम जिकुड़ि कि आवाज दगड्या। जाणि बूझि करदौ अनसुणि…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का बाल विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

हरेला मनाएं आओ भाई आओ बहिनों हरेला मनाएंगे । देव भूमि की परम्परा को आगे हम बढ़ाएँगे।। स्वच्छ माटी ,स्वच्छ…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक : लोकसंहिता टीवी  आया हरेला रिमझिम फुहार, गाए मल्हार। जीवन में देखो, आनंद छाया।…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक वृक्ष लगाओ धरती सजाओ आओ मिलकर करें, आज एक संकल्प।। वृक्ष लगाकर धरती की,…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

       कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक : लोकसंहिता टीवी  हरेला मानाओ मेरे दगड़ियों, हरेला मनाओं। अपने घरो…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक : लोकसंहिता टीवी  अब क्या होना है अब क्या होना है अब क्या होना…

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक

कविताओं, कहानियों व चित्रों का विशेषांक : लोकसंहिता टीवी